गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Friday, 24 February 2012

कैसे

नये ताल में
नये छंद का
नये राग में
नये बंध का

नये सुरों में
नये कंठ का
नई क्रांति का
संकल्पों का
कैसे गीत सुनाऊं?

बड़े भोर ही
नये पहर में
नये डगर का
नये द्वार का

नई उमर का
जाति-धर्म का
बैर-भाव का
लोभ-मोह का
दुःख-दरिद्र का
कैसे राग मिटाऊं?

किसको गीत सुनाऊं?
काहे मनमीत बनाऊं?
को संग कब प्रीत बढ़ाऊं?
पल-छिन खुद से शरमाऊं?

रमाकांत सिंह 18/07/1996

11 comments:

  1. नाजुक सा राग.

    ReplyDelete
  2. बहुत शुभ आकांक्षा !

    ReplyDelete
  3. कविता का भाव बहुत ही अच्छा लगा । मेरे पोस्ट "भगवती चरण वर्मा" पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  4. मन के असमंजस को सुन्दर अभिव्यक्ति दी है आपने.
    पहली दफा आपके ब्लॉग पर आया हूँ.
    बहुत अच्छा लगा आपको पढकर.
    आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  5. बहूत हि अच्छा लिखा है आपने,,
    सुंदर अभिव्य्ती...

    ReplyDelete
  6. कविता का शिल्प ध्यानाकर्षित करता है।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दरता से गढ़ा है आपने रचना को....
    बहुत बधाई इस खुबसूरत सृजन के लिए...

    ReplyDelete
  8. बैर-भाव का
    लोभ-मोह का
    दुःख-दरिद्र का
    कैसे राग मिटाऊं?
    Bhaavpuran bhav...

    ReplyDelete
  9. बड़े भोर ही
    नये पहर में
    नये डगर का
    नये द्वार का
    नई उमर का
    जाति-धर्म का
    बैर-भाव का
    लोभ-मोह का
    दुःख-दरिद्र का
    कैसे राग मिटाऊं?
    bahut achchha likhte hai aap ,kitni sahi baate hai par hal zara mushkil

    ReplyDelete
  10. उहापोह के स्थिति हे गौ, अब ताल सुना ही देना चाही

    ReplyDelete