गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Thursday, 29 March 2012

शाश्वत



विचारों के अनंत सागर में
पानी में बनी
सीधी लकीरें
स्वप्न या दिवास्वप्न

दिवास्वप्न ही जीवन है?
जीवन एक जंजीर?
जिसकी कडि़यां खुलती हैं

बंधकर खुलने तक
यह एक माया?
छल, भ्रम, अनुगूंज
या झंकार है?

एक से जुड़ी
दूसरी दत्तक कड़ी
कोरी कल्पना?
मिथ्या किंवा
शाश्वत सत्य
भ्रमबोध में
पुनः-पुनश्च

11/10/1975
चित्र गूगल से साभार

17 comments:

  1. भारी कठिन कविता है गा, कड़ी कड़ी ला जोड़ के।

    ReplyDelete
  2. Jaha gujarti hazaro kashtiya aise me lahro ko nind kaha ati hai,aur ab to sapano me hi tumase mulaquat hoti hai.

    ReplyDelete
  3. Jaha gujarti hazaro kashtiya aise me lahro ko nind kaha ati hai,aur ab to sapano me hi tumase mulaquat hoti hai.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर...
    जीवन क्या है ये बड़ी विकट पहेली है...

    टंकण त्रुटि सुधार लीजिए.साश्वत को शाश्वत कर लें.

    सादर.

    ReplyDelete
  5. मेरी टिप्पणी खोजिये रमाकांत जी...

    ReplyDelete
  6. दिवास्वप्न ही जीवन है?
    जीवन एक जंजीर?
    जिसकी कडि़यां खुलती हैं
    बंधकर खुलने तक

    Ji han.... Bahut Gahari Soch Liye Panktiyan

    ReplyDelete
  7. वाह! सुंदर सृजन....

    दिवास्वप्न ही जीवन है साकार करें इसको आओ।
    जब तक रहना है बंधन मे, जय कृष्ण कृष्ण गाते जाओ॥


    सादर बधाई।

    ReplyDelete
  8. बंधकर खुलने तक
    यह एक माया?
    छल, भ्रम, अनुगूंज
    या झंकार है?... राग है अनुराग है या अनुभवों का भवसागर !

    ReplyDelete
  9. दिवास्वप्न ही जीवन है?
    जीवन एक जंजीर?
    bahut hi ahan artha liye rachana...
    behtarin rachana:-)

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  11. शाश्वत सत्य सी रचना..

    ReplyDelete
  12. बहुत ही बढि़या

    ReplyDelete
  13. बहुत शानदार....गहन अभिव्यक्ति ....!!!!

    ReplyDelete
  14. .................बहुत सुंदर
    पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ

    मैं ब्लॉगजगत में नया हूँ कृपया मेरा मार्ग दर्शन करे
    http://rajkumarchuhan.blogspot.in

    ReplyDelete