गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Friday, 9 March 2012

तुम बदल गई ?


आप बदल गये
इसलिए मैं बदल गई
नहीं।
तुम बदल गई
इसलिए मैं बदल गया
मैं जैसी भी हूं
अच्छी हूं या गंदी हूं
आपकी अपनी हूं


नहीं।

तुम जैसी भी हो
तुम मेरी जिंदगी हो।

हमने पाल लिया एक भ्रम
बदला कुछ भी नहीं हमारे बीच
बस समझने-समझाने का ढंग बदल गया
आंखों ने जो देखा
उसे ओठों ने कहना बंद कर दिया।
कानों ने जो सुना
उसे दिमाग ने पढ़ना बंद कर दिया।

हवाओं में आज भी
सरसराहट है
हाथ आज भी
खिड़की के बाहर है
बंद कमरे में आज भी
कोई चीखता है

और हर सू एक ही चेहरा दिखता है।

रमाकांत सिंह 01/03/2011
(चित्र गूगल से साभार)

20 comments:

  1. बहुत सुंदर रचना,बेहतरीन भाव अभिव्यक्ति...

    RESENT POST...फुहार...फागुन...

    ReplyDelete
  2. बहुत गहन भाव लिए अच्छी रचना ...

    ReplyDelete
  3. बदला कुछ भी नहीं हमारे बीच
    बस समझने-समझाने का ढंग बदल गया...
    सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  4. अच्छी रचना...कोमल भाव लिए...

    अगर बुरा ना माने...सिर्फ मेरे विचार हैं..
    अच्छी हूँ या "गन्दी" हूँ...में यदि अच्छी हूँ या "बुरी" हूँ कर दें तो और काव्यात्मक लगे शायद...
    सादर

    ReplyDelete
  5. कल 10/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. यह कराह है शायद, जो बंद कमरे की चीख सी लग रही है आपको.

    ReplyDelete
  7. सुझाव- अंतिम पंक्ति अगर इस तरह हो तो कैसा रहे ?
    और हर सू एक ही चेहरा दिखता है.
    टिप्‍पणी- इसी तारतम्‍य में दो लाइन (स्‍मरण कराते हुए) सप्रेम समर्पितः
    ''मेरा दुख तुम्‍हें अपना दुख नहीं लगता
    मुझे भी तुम्‍हारा सुख अपना सुख नहीं लगता''.

    ReplyDelete
  8. बस समझने-समझाने का ढंग बदल गया

    समय के साथ कई पड़ाव आते हैं रिश्तों में ..... सुंदर रचना

    ReplyDelete
  9. बदला कुछ भी नहीं हमारे बीच
    बस समझने-समझाने का ढंग बदल गया...
    अच्छी रचना

    ReplyDelete
  10. आंखों ने जो देखा
    उसे ओठों ने कहना बंद कर दिया।
    कानों ने जो सुना
    उसे दिमाग ने पढ़ना बंद कर दिया।
    अक्सर यही स्तिथि दरारें पैदा कर देती है ...जब हम सारे खिड़की दरवाज़े बंद कर लेते हैं ...कोई आवाज़, कोई अहसास हम तक नहीं पहुँच पाता ... बेहतरीन रचना !!!!!

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर....... आंखों ने जो देखा
    उसे ओठों ने कहना बंद कर दिया।
    कानों ने जो सुना
    उसे दिमाग ने पढ़ना बंद कर दिया।

    ReplyDelete
  12. आप अपने मनोभावों को शब्द देने में सफल हुए हैं।

    ReplyDelete
  13. एक दम परमहंस वाली स्थिति है, इसी तरह मानव मन वीतरागता को प्राप्त करता है, जो बड़े-बड़े ॠषि मुनियों के लिए सहज नहीं है। प्रेम का पथ ही मोक्ष की ओर ले जाता है……………बहुत ही सुंदर भाव सहेजे हैं आपने… आभार "फ़्रेर फ़ोटो नई दिखत हे गौ, कहाँ किडनेप होगे?"

    ReplyDelete
  14. समय के साथ बहुत कुछ बदल जाता है..अच्छा लिखा है..

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर गहन विचार अभिव्यक्ति है...

    ReplyDelete
  16. पिछले कुछ दिनों से अधिक व्यस्त रहा इसलिए आपके ब्लॉग पर आने में देरी के लिए क्षमा चाहता हूँ...

    ............. रचना के लिए बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete