गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Saturday, 24 March 2012

टूटती कडि़यां

आज के दौर में स्नेह और आत्मीयता की टूटती कडि़यों

बिखरते संबंधों के साथ मुझे
अपने पिछवाड़े बंधी भैंस याद आने लगती है।
एक बार मैने भैंस को बांध दिया सांकल से,
सांकल को बांध दिया खूंटे से, अब खूंटे को
गाड़ दिया जमीन में और सो गया चादर तानकर।

हम सदैव सोचते हैं कि हमने अपने दायित्वों का
निर्वहन कर दिया, हो गई दायित्वों की इति।

मैने अपने कर्तव्य पूर्ण कर लिए।
मैने कभी भी पूरक बिंदुओं पर ध्यान नहीं दिया,
न ही कभी किसी कमी पर अपना ध्यान केंद्रित किया
और पूरी निश्चिंतता से पांव पसारकर नींद ले ली।

अचानक आंख खुली और मैने पाया कि जिन
पौधों को बड़े जतन से अपने श्रमकणों से सींचा था
उन पौधों को भैंस ने कुछ ही पलों में ठूंठ में बदल दिया।
एक लंबे समय तक पीड़ा से छटपटाता रहा,
विचार करता रहा कि एक ही पल में यह कैसे हो गया?

वास्तव में नुकसान के बाद पूरी बातें समझ में आई
कि भैंस सांकल से बंधी थी, सांकल खूंटे से बंधी थी,
और खूंटा गाड़ा गया था जमीन में जब सब कुछ ठीक है
तो पौधे ठूंठ में कैसे बदल गए?
वास्तव में मैं सांकल की प्रत्येक कड़ी को देखना भूल गया,
एक कमजोर कड़ी को परखना भूल गया।
बस फिर क्या था खुल गई भैंस।

और इसी एक चूक ने मेरे बरसों के परिश्रम पर पानी फेर दिया।
मै आज समझ पाया कि प्रत्येक पल प्रति क्षण मुझे सजग और चेतन रहना था।
सभी कडि़यां महत्वपूर्ण हैं प्रति पल का ध्यान रहे तभी हमारा पूर्व कार्य सार्थक
और यथावत बच पाता है।

रमाकांत सिंह 16/01/2010 अकलतरा मेरी आत्मकथा से

20 comments:

  1. अद्भुत.........
    सादर नमन आपके विचारों और लेखनी को....

    दिल में गहरे उतर गए एक एक शब्द....

    एक कमजोर कड़ी को परखना भूल गया।
    बस फिर क्या था खुल गई भैंस।

    लाजवाब....

    ReplyDelete
  2. एक कमजोर कड़ी को परखना भूल गया था...
    अत्यंत सार्थक चिंतन...

    ReplyDelete
  3. Achhi rachana likhate rahe par kewal smritiyo par hi vartman par bhi kyoki"panw chane aur malne
    Ke alawa bhi bahut kuchh hai jeewn me
    Rajesh tathavT

    ReplyDelete
  4. रिश्तो की डोर बहुत ही नाजुक होती है जरा सी लापरवाही से टूटना तो है ही......
    वास्तव में मैं सांकल की प्रत्येक कड़ी को देखना भूल गया,
    एक कमजोर कड़ी को परखना भूल गया।
    बस फिर क्या था खुल गई भैंस।
    बहुत ही सुन्दर ,सार्थक रचना.........लाजवाब प्रस्तुति.....

    ReplyDelete
  5. सभी कडि़यां महत्वपूर्ण हैं प्रति पल का ध्यान रहे तभी हमारा पूर्व कार्य सार्थक
    और यथावत बच पाता है।

    ...बिलकुल सच...बहुत सार्थक चिंतन...

    ReplyDelete
  6. bahut hi shashwat aur sarthak rachna

    ReplyDelete
  7. कमजोर कड़ी धोखेबाज होती है, समझदारी यही है कि कमजोर कड़ी का ध्यान रखा जाए……… अन्यथा भैंस का तो काम ही चरना है :)

    ReplyDelete
  8. वास्तव में मैं सांकल की प्रत्येक कड़ी को देखना भूल गया,
    एक कमजोर कड़ी को परखना भूल गया।

    जीवन के यथार्थ को बताती सार्थक अभिवयक्ति....

    ReplyDelete
  9. सच है जीवन की सभी कड़ियों पर ध्यान देना होता है, एक भी कड़ी अनदेखी रह गई तो निश्चित ही चूक होगी. सार्थक रचना, शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  10. सभी कडि़यां महत्वपूर्ण हैं प्रति पल का ध्यान रहे तभी हमारा पूर्व कार्य सार्थक और यथावत बच पाता है।

    बहुत गहरी बात.....

    ReplyDelete
  11. मोर कमेंट कहाँ गए गौ?

    ReplyDelete
  12. सभी कडि़यां महत्वपूर्ण हैं प्रति पल का ध्यान रहे तभी हमारा पूर्व कार्य सार्थक और यथावत बच पाता है।

    हां, जीवन में घटित होने वाली घटनाओं की प्रत्येक कड़ी महत्वपूर्ण है।

    ReplyDelete
  13. Bahut achhe keep it up.bhainse ke buniyadi charitrya me koi badlaw nai banusahab yani"Bhainsa ke aage been bajaye bhains khadi pagurai"

    ReplyDelete
  14. बहुत खूब ... सच है की सजग रहना पढता है हर कदम पे ...

    ReplyDelete
  15. सभी कड़ियाँ मज़बूत होनी अनिवार्य हैं .... उम्दा प्रस्तुति .. !!

    ReplyDelete
  16. कमजोर कड़ी की परख होनी चाहिए ... अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  17. सुक्ष्म चिंतन को प्रेरित करता सार्थक संदेश!! आभार!!

    ReplyDelete
  18. सूक्ष्म व सुन्दर सन्देश

    ReplyDelete
  19. एक बार मैने भैंस को बांध दिया सांकल से,
    सांकल को बांध दिया खूंटे से, अब खूंटे को
    गाड़ दिया जमीन में और सो गया चादर तानकर।
    ..........बहुत ही नाजुक होती है रिश्तो की डोर

    ReplyDelete