गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Monday, 13 May 2013

सत्यं शिवं सुन्दरं


सत्यं शिवं सुन्दरं

मान्यताएँ पौराणिक ही हों?
युग का बंधन?
सतयुग, त्रेता, द्वापर या कलियुग

सत्य क्या है?
शिव क्या है?
सुन्दर क्या है?

सत्यवादी कौन?
राजा हरिश्चन्द्र?

धर्मराज के  अवतार
राजा युधिष्ठिर क्यों नहीं?

अश्वत्थामा हतो हतः
नरो वा कुंजरो?
युधिष्ठिर से पूछा
और पांचजन्य की गूंज में
विसरित हो गया सत्य?

तब सत्यवादी युधिष्ठिर
हर युग में
सत्यवादी राजा हरिश्चन्द्र ही?
सालता है मन को?

अक्षय तृतीया को
अशांत ह्रदय
प्रश्न करता है
जन से

१३ मई २०१३
विक्रम संवत २०७०
वैशाख शुक्ल अक्षय तृतीया
समर्पित तथागत ब्लॉग के सर्जक
श्री राजेश कुमार सिंह को

23 comments:

  1. स्वर्गारोहण पर्व में युधिष्ठिर ने अर्धसत्य की सजा पाई है -वे धर्मराज हैं,
    पर हरिश्चन्द्र ही सत्यवादी है.[मेरा नजरिया]
    [नरो वा कुंजरो की बात महाभारत में इन शब्दों में नहीं है,जबकि प्रचलित यही है ]

    ReplyDelete
    Replies
    1. हमारे आदरणीय अग्रज,
      नरो वा कुंजरो की बात महाभारत में किन शब्दों में है, बता कर ज्ञानवर्धन करें, आपकी पांडित्‍यपूर्ण टिप्‍पणी के लिए हार्दिक आभार और सादर प्रणाम स्‍वीकार करें.

      Delete
  2. प्रश्न गम्भीर् है॥ अपना अपना नजरिया है ,,पौराणिक मान्यताएँ के अनुसार ही
    यही सत्यं यही शिवं यही सुन्दरं है॥

    ReplyDelete
  3. सुंदर समर्पण. पौराणिक मान्यताएँ भी कसौटी पर हैं.

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुतीकरण.

    ReplyDelete
  5. मरिचिअत्रिभगवानांगिरा पुल्ह क्रतु,
    पुलस्तश्च वशिष्ठश्च सप्तैते ब्राह्मणा सुता:

    अक्षय तृतीया पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  6. कई प्रश्नों के सीधे उत्तर नहीं होते ...
    क्या धर्म बड़ा है या सत्य ... पर शिव सुन्दर जरूर है ..

    ReplyDelete
  7. तब सत्यवादी युधिष्ठिर
    हर युग में
    सत्यवादी राजा हरिश्चन्द्र ही?
    सालता है मन को?

    सार्थक प्रश्न ... विचारणीय

    ReplyDelete
  8. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल १४ /५/१३ मंगलवारीय चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां स्वागत है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया राजेश कुमारी जी आपका स्नेह बरसा और आपने रचना को मंगलवारीय चर्चा मंच पर स्थान दिया आभार
      अक्षय तृतीया की शुभकामना

      Delete
  9. सत्‍य पर प्रश्‍न करता सुंदर सवाल.

    ReplyDelete
  10. prasangwash kai bar kisi prashan ke uttar anutrit hi rah jaate hain ...kai bar ye sahi bhi lagta hai kyonki lohe ko loha hi katta hai ....sundar prastuti ....

    ReplyDelete
  11. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन अक्षय तृतीया मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग बुलेटिन परिवार का ह्रदय से आभारी कि अक्षय तृतीया के पावन अवसर पर रचना को शामिल किया

      Delete
  12. प्रश्न कठिन है और संदेह स्वाभाविक
    क्या धर्माचरण सत्य नहीं?
    क्या सत्य का मार्ग धर्म नहीं?
    फिर
    सत्यवादी हरिश्चन्द्र और धर्मराज युधिष्ठिर ही क्यों
    सत्यवादी युधिष्ठिर और धर्मराज हरिश्‍चन्‍द्र
    क्‍यों नहीं?

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके अमूल्य और मार्गदर्शक टिपण्णी का इंतजार सदा बना रहता है

      Delete
  13. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    शेअर करने के लिए शुक्रिया!

    ReplyDelete
  14. पौराणिक व्याख्या के माध्यम से प्रस्तुत विचारणीय प्रश्न

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया डॉ मोनिका शर्मा जी यहीं तो अटक जाता है ?

      Delete
  15. " युधिष्ठिर " = जो युध्द में भी स्थिर रहे , वही है युधिष्ठिर । यह सच है कि
    महाभारत के युध्द में उन्होंने आधा झूठ बोला , पर यह आवश्यक था । सत्य की
    स्थापना के लिए बोला गया झूठ , सौ - सत्यों के बराबर है । " शठे शाठ्यम्
    समाचरेत् ।" युधिष्ठिर मुझे बहुत अच्छे लगते हैं । 'यक्षप्रश्न ' का उत्तर कोई भी
    पाण्डव न दे सका पर युधिष्ठिर ने यक्ष के प्रश्नों का उत्तर दे कर अपने भाइयों को
    पाषाण से पुनः , मनुष्य के रुप में पा लिया । " सत्यमेवजयते नानृतम् ।"

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप सत्य को स्वीकार करती हैं आपने रचना पर अपनी प्रतिक्रिया दी लेखन सफल हुआ ह्रदय से आभार

      Delete
  16. सच बोलना अत्यन्त सरल है किन्तु एक सामान्य मनुष्य सच नहीं बोल पाता । सच
    बोलना साहस का काम है । आम आदमी न सच बोल पाता न सच को सह पाता है ।
    सत्य का निर्वाह करने वाला अकेला पड जाता है , सब उससे कतराते हैं ,उसे कोई
    नहीं चाहता । वटवृक्ष को कोई पसन्द नहीं करता । उसकी छाया सबको अच्छी लगती
    है पर उसका विशाल व्यक्तित्व कोई सह नहीं पाता । क्या वास्तव में , सत्य हजारों
    अश्वमेध से श्रेष्ठ है ? क्या वास्तव में सत्य में हजार हाथियों का बल होता है ?

    ReplyDelete
  17. आपने तो बहुत ही महत्‍वपूर्ण बात को रेखांकित किया है। इस ओर कभी ध्‍यान ही नहीं गया। बतरस के लिए (और लोगों को उलझाने के लिए) अच्‍छा-खासा विषय दे दिया आपने।

    ReplyDelete