गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Tuesday, 17 December 2013

तल्खियाँ


न जाने क्यूँ आज फिर लगने लगा है डर

*
आज भी आंसुओं को पोंछना आता नही
और खुद को खुदा से भी बड़ा मान लिया
**
बेअदब, बेरूखी बेइन्तहा अब काहे का शोर
हसीन धोखा है ये तेरा प्यार मैने जान लिया
***
जख्म जख्म पर ही दिये है तूने बरसों
आज कैसा दर्द अपनो से झेल सीने पर
****
बना खुदा तो ये तेरे बन्दे कहाँ बख्शेंगे
सौगात आँसुओं के तेरी झोली में आये
*****
ये तो हम है जो जी रहे है तेरी खातीर
लोग रूखसत हुए है पाक दामन कभी
******
जलजला या सैलाब दोष क्या सोचना
अब खुदा का कहर बरपेगा तारीख क्यूँ
*******
आक्रोश की प्रसुति हो न, गर्व फिर शरम
रहम वो भी तेरी झोली मे, कर लूँ भरोसा
********
धोखा, छल, फरेब, आँसू सब मेरे हिस्से
न जाने क्यूँ आज फिर लगने लगा है डर

15  दिसम्बर 2013
समर्पित मेरी ज़िन्दगी को 

18 comments:

  1. आज भी आंसुओं को पोंछना आता नही
    और खुद को खुदा से भी बड़ा मान लिया


    बहुत सुन्दर अशआर !
    नई पोस्ट चंदा मामा
    नई पोस्ट विरोध

    ReplyDelete
  2. गहन सार्थक तल्खियाँ ...!!बहुत सुंदर ...

    ReplyDelete
  3. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. रविकर जी आपने तल्खियाँ को चर्चा मंच के योग्य समझा आभार

      Delete
  4. waah kya khoob likha ...sachmuch aisa hota bhi hai ...

    ReplyDelete
  5. बड़ी तल्खी से उम्दा लिखा है..

    ReplyDelete
  6. जख्म जख्म पर ही दिये है तूने बरसों
    आज कैसा दर्द अपनो से झेल सीने पर

    बहुत ही उम्दा,प्रस्तुति...!
    RECENT POST -: एक बूँद ओस की.

    ReplyDelete
  7. गहन सार्थक रचना.

    ReplyDelete
  8. छोटे-छोटे शेर के माध्यम से बड़ी-बड़ी बातें!!

    ReplyDelete
  9. दिल की गहराई से निकला कथन..

    ReplyDelete
  10. भाव-पूर्ण सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
  11. धोखा, छल, फरेब, आँसू सब मेरे हिस्से
    न जाने क्यूँ आज फिर लगने लगा है डर।

    बहुत अच्छे शेर।

    ReplyDelete
  12. वाह सर, भाव पूर्ण !!

    ReplyDelete
  13. कल 20/12/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. कल्प वृक्ष की भाँती आपका स्नेह मिला
      आभार

      Delete
  14. जुदा अंदाज़ के शेर ... खुदा का कहर बरपेगा तो कब किसी को क्या पता ...

    ReplyDelete

  15. धोखा, छल, फरेब, आँसू सब मेरे हिस्से
    न जाने क्यूँ आज फिर लगने लगा है डर

    सुन्दर पंक्तियाँ |

    ReplyDelete
  16. आज भी आंसुओं को पोंछना आता नही
    और खुद को खुदा से भी बड़ा मान लिया
    खूबसूरत अशआर हर अशआर कुछ कहता हुआ.बधाई.

    ReplyDelete