गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Saturday, 17 August 2013

छलावा


अब अँधेरा होगा?
भोर हुई
और रवि की किरणों संग
तुमने सोच लिया
जगत को जीत लिया
अब अँधेरा होगा ही नहीं?

विस्तृत आसमान है
उड़ चलो खोलकर पंख
वक़्त थम जायेगा मौज में?
तुम्हारी मर्ज़ी से तुम्हारी खातिर?

अक्षय तरुणाई?
समय की धारा में भी
बारिस के बुलबुले हैं?
कि थम जाये सावन में भी?

अहंकार या बचपना?
या फिर छलावा खुद से?
न संशय न आग्रह
ढीठ, उन्मत्त बन

ज़िन्दगी, ज़िन्दगी है?
ज़िन्दगी में कोई शर्त ?

लेकिन

ज़िन्दगी मेरी है?
मेरी शर्तों पर?
जल तरंग की भांति
नित नये स्वरुप ले

न पुनर्जन्म
न सृजन

मेरे वज़ूद के लिये
मंज़ूर
कोई शर्त नहीं
तेरी मर्ज़ी तू जाने

01जुलाई 2013
चित्र गूगल से साभार

20 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी का लिंक कल रविवार (18-08-2013) को "नाग ने आदमी को डसा" (रविवासरीय चर्चा-अंकः1341) पर भी होगा!
    स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने छलावा को (18-08-2013) को "नाग ने आदमी को डसा" (रविवासरीय चर्चा-अंकः1341) के लिए चुना आभार

      Delete
  2. कोई शर्त नहीं
    तेरी मर्ज़ी तू जाने sahi bat apni marji hi chalti hai ....bahut acchi prastuti ...

    ReplyDelete
  3. कब कुछ ठहरा है जिन्दगी में
    जिन्दगी शर्तों से परे ही अच्छी
    बहुत सुन्दर, आभार !

    ReplyDelete
  4. मेरे वज़ूद के लिये
    मंज़ूर
    कोई शर्त नहीं
    तेरी मर्ज़ी तू जाने,,,

    बहुत सुंदर पंक्तियाँ ,,आभार रमाकांत जी

    RECENT POST: आज़ादी की वर्षगांठ.

    ReplyDelete
  5. आकाश में विचरते पंछी की तरह खुली, आजाद सोच.

    ReplyDelete
  6. अहंकार या बचपना?
    या फिर छलावा खुद से?
    न संशय न आग्रह
    ढीठ, उन्मत्त बन

    ज़िन्दगी, ज़िन्दगी है?
    ज़िन्दगी में कोई शर्त ?
    अच्छी रचना ,शुभकामनाएं
    latest os मैं हूँ भारतवासी।
    latest post नेता उवाच !!!

    ReplyDelete
  7. अहंकार या बचपना?
    या फिर छलावा खुद से?
    न संशय न आग्रह
    ढीठ, उन्मत्त बन

    ज़िन्दगी, ज़िन्दगी है?
    ज़िन्दगी में कोई शर्त ?गहन अभिवयक्ति......

    ReplyDelete
  8. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति आज रविवार (18-08-2013) को "ब्लॉग प्रसारण- 87" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने छलावा को "ब्लॉग प्रसारण- 87" के लायक माना आभार

      Delete
    2. ये शब्द यदि ब्लॉग प्रसारण पर लिखे होते तो हार्दिक ख़ुशी मिलती।

      Delete
  9. अहंकार या बचपना?
    या फिर छलावा खुद से?

    मन को छूती पंक्तियाँ …

    ReplyDelete
  10. ज़िन्दगी, ज़िन्दगी है?
    ज़िन्दगी में कोई शर्त ..बहुत सुन्दर .मन को छूती पंक्तियाँ …आभार

    ReplyDelete
  11. मन को छुती रचना... बहुत सुंदर भाव.... जिंदगी शर्तों पर नहीं ....

    ReplyDelete
  12. " किम् आश्चर्यम् ?" यक्ष ने युधिष्ठिर से प्रश्न किया था । अर्थात् आश्चर्य क्या है ? "मनुष्य प्रतिदिन अपने सामने अनेक लोगों को मरते हुए देख रहा है फिर भी वह समझ नहीं पाता कि एक दिन वह भी मरेगा, यही आश्चर्य है ।" युधिष्ठिर ने कहा ।

    ReplyDelete
  13. रचना उत्कृष्ट है ..
    बधाई !

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर प्रस्तुति,बधाई.

    ReplyDelete
  15. एक दिन पानी के बुलबुले की भांति सब खतम हो जाएगा.कुछ भी तो हमेशा रहने वाला नहीं है फिर भी जीवन चलता रहता है.
    अच्छी भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  16. मेरे वज़ूद के लिये
    मंज़ूर
    कोई शर्त नहीं
    तेरी मर्ज़ी तू जाने

    ...वाह! बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete