गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Monday, 7 May 2012

घर-घर की कहानी




जो जस लिखा तहां तस होई जनम विवाह मरन गति सोई।
तुलसीदास जी ने लिख दिया और खिसक लिए अपने धाम।

बातें तो हमें युग की निभाना इस युग में उस पर तुर्रा भारतवर्ष के गांवों की जहां लोग बुद्धिमान नहीं क्लेभर हो गये हैं लेकिन हम भी कहां मानने वाले थे निकल ही गये शादी लगाने चार मनमौजी परिवार में। चलते.चलते मेरी बहन ने कहा कुछ बातों का खयाल रखना तुम्हें दुःख नहीं होगा और न ही शादी लगाने में दिक्कत भी आयेगी।

नंबर 1 हम विश्‍व सुन्दरी नहीं हैं
नंबर 2 आपके पास इतना धन नहीं है कि किसी लड़के को खरीदा जा सके
नंबर 3 हम किसी महान पद पर कार्यरत नहीं कि जिसका लाभ दिखे
और नंबर 4 अंतिम बात हमारी उम्र 14 बरस नहीं कि आप 4 बरस शादी लगाने के लिये फेरे लगा पायें और लोग आपका इंतजार करते रहें।

खुशनसीब हैं वे लोग जिन्हें बेटा जैसा दामाद और भाई जैसा जीजा मिलता है और वे भी कम खुशनसीब नहीं जिन्हें बेटी जैसी बहू और बहन जैसी भाभी मिले। शायद जिंदगी को बेहतर जीने के लिए हमें जितना जरूरी है अच्छे दामाद की उतना ही जरूरी होता है एक अच्छी बहन जैसी बहू का होना जो दोनों कुलों के सम्मान की रक्षा करे।

हम चाहे कितने भी आधुनिक प्रगतिशील बहुआयामी खुले विचारधारा के बन जायें या होंए चाहे हम कस्बा से हटकर महानगर में बसे हों या फिर महानगर में ही पैदा हुए पले.बढ़े अति संवेदनशील युवा वर्ग के हों। हमारी संस्कृति, परम्परा, रीति रिवाज, मान्यता, संस्कार भारतवर्ष की माटी की सौंधी महक से जोड़े ही रखती है। लेकिन कभी.कभी ऐसा कुछ घट जाता है कि मन सोचने लग जाता है कि ऐसा क्यों कर हुआ

बाबूजी को उनके मित्र पुरोहित जी ने अपनी लड़की की शादी के लिए योग्य वर तलाशने की जिम्मेदारी सौंप दी। बाबूजी ठहरे धुन के पक्के सो ले गए उन्हें अपने परम मित्र अमर के घर, जहां संपन्नता पूरे घर में बिखरी पड़ी थी पूरा घर धन धान्य से अटा और बिखरा पड़ा था। जहां देखो वहीं कीमती सामान बिखरा हुआ जैसे ही बाबूजी ने शादी की बात चलानी चाही उनके मित्र ने मना कर दिया बाबूजी के कारण पूछने पर उन्होंने बाद में बताने की कह कर टाल दी कहा कि उनकी बेटी का जीवन यूं ही बीत जायेगा वह बिना सुख भोगे ही मर जायेगी। सो बात यहीं खतम करो।

बाबूजी ने बात खतम नहीं की बल्कि पुरोहित जी को अपने एक दूसरे अति आधुनिक मित्र आनंद के घर ले गए। घर कहां राजमहल था चारों ओर अति आधुनिक यंत्रों का जाल बिछा हुआ था। सुविधाओं का अंबार ही अंबार। रोबोट ने ही सब काम कियाए यहां तक जब कभी चाय की तलब हुई उसने ही बनाकर पिलाया और तो और 50 ग्राम चाय की खरीदी या अन्य सामानों की खरीदी भी उसी ने ही बार.बार की। बाबूजी ने जैसे ही शादी के बारे में बात आगे कहनी चाही पुरोहित जी ने इस बार भी उन्हें रोक दिया।
पूछने पर बड़ा अजीब जवाब मिला था।

बाबूजी 14अगस्त 1994 को तुलसीदास जी से मिलने चले गए मेरे मन में आज भी बातें घुमड़ती हैं, एक छोटा सा गोल उत्तर उस घर बेटी देकर क्या करना, मन सोचने लगता है, ऐसा किस दृष्टिकोण के कारण हुआ होगा, क्यों कर बन गया दोहरा मापदण्ड, रिश्‍तों के लिए नकार दिये गए दो संपन्न परिवार

एक संस्मरण 06.05.2012
चित्र गूगल से साभार

13 comments:

  1. दोहरा मापदण्ड, ही परेशानी का सबब बनता है,... अच्छी प्रस्तुति,....

    RECENT POST....काव्यान्जलि ...: कभी कभी.....

    ReplyDelete
  2. अनुभव की संतुलित प्रस्‍तुति.

    ReplyDelete
  3. प्रभावशाली रचना.....

    ReplyDelete
  4. रमाकांत जी, समाज का एक यथार्थ.. एक कड़वा सच..!!

    ReplyDelete
  5. दुखद है पर सत्य यही है....

    ReplyDelete
  6. mujhe lagta hai --suvidha aur santosh me fark hai....

    ReplyDelete
  7. दोहरा,तिहरा मापदंड से ही समाज चलता है ..जो हमारे समझ के बाहर है....?

    ReplyDelete
  8. विचारणीय संस्मरण! उन्नत मन किस तरह सोचते हैं यह समझ पाना असम्भव भले न हो, आसान तो नहीं है।

    ReplyDelete
  9. घर-घर की कहानी पर यहां लगी तस्‍वीर देख कर लगता है कि कोई आइटम नंबर आने को है.

    ReplyDelete
  10. @शायद जिंदगी को बेहतर जीने के लिए हमें जितना जरूरी है अच्छे दामाद की उतना ही जरूरी होता है एक अच्छी बहन जैसी बहू का होना जो दोनों कुलों के सम्मान की रक्षा करे....

    प्रभाव शाली सच ....

    ReplyDelete
  11. इन दिनों इसी विषय से जूझ रहे एक परिवार के लिए यह पोस्‍ट उपयोगी होगी।
    कृपया अपने ब्‍लॉग को ई-मेल से प्राप्‍त करने की सुविधा उपलब्‍ध कराऍं।

    ReplyDelete
  12. विचारणीय रचना | आभार


    यहाँ भी पधारें और लेखन पसंद आने पर अनुसरण करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete