गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Friday, 25 May 2012

सबा


हर शाम सुहानी आये
खुशियों के सबा लाये
मौजे-तबस्सुम के
सुबहे-मसर्रत में
हर सफर बीत जाये



ज़ाम मए-तरब
हो मुबारक तुझे
रहगुजर के खिजा
खार दे दे मुझे
शबे-इंतजार भी
रौशन सहर लाये

शाम आती रहे
बिन्ते-महताब बन
रूए-ताबां रहे
हश्र की रात तक
ये अश्को-तबस्सुम का
कारवां भी गुजर जाये


17.08.1978
चित्र गूगल से साभार

सबा=प्रात: समीर, मौजे-तबस्सुम=मुस्कान तरंग, सुबहे-मसर्रत=खुशी का
सबेरा,बिन्ते-महताब=चांद की बेटी, रूए-ताबां=ज्योर्तिमय, हश्र=प्रलय,
अश्को-तबस्सुम=आंसू और मुस्कान, कारवां=काफिला, जाम मए-तरब=
आनंद रूपी मदिरा, खिजां=पतझड़, रहगुजर=रास्ता, शबे-इंतजार=प्रतीक्षा
की रात, रौशन=प्रकाशित, सहर=सुबह,

22 comments:

  1. बेहतरीन ग़ज़ल..

    ReplyDelete
  2. अच्छी गज़ल.....
    कुछ कठिन शब्दों के अर्थ भी दीजिए पाठकों को ज्यादा आनंद आएगा.

    सादर.

    ReplyDelete
  3. शाम आती रहे
    बिन्ते महताब बन
    रूए ताबा रहे
    हश्र की रात तक
    ये अश्को तबस्सुम का
    कारवां भी गुजर जाये

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,,,,,

    MY RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि,,,,,सुनहरा कल,,,,,

    ReplyDelete
  4. ज़ाम मए तरब
    हो मुबारक तुझे
    राहगुजर के खिजा
    खार दे दे मुझे
    शबे इंतजार भी
    रौशन सहर लाये
    शानदार ग़ज़ल... सादर

    ReplyDelete
  5. खूब नब्‍ज पकड़ी है आपने.

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर गज़ल ...कुछ शब्दो के अर्थ समझ नही आया..अर्थ भी लिखा होता तो अच्छा होता...

    ReplyDelete
  7. ब्‍लाग जगत में मेरा प्रवेश देर से हुआ, आपकी उर्दू पर इस पकड़ से मैं अब तक वाकिफ नहीं था, अतः मेरे लिए आपकी यह प्रथम उर्दू रचना है, आपके ब्‍लाग का मैं प्रशंसक हूं ही, उर्दू से भी मुझे अत्‍यंत प्‍यार है, लेकिन जैसा कि आप जानते हैं कि प्‍यार अंधा होता है, उर्दू की मेरी समझ उतनी नहीं है, आगे की रचनाओं में क्लिष्‍ट उर्दू लफ्जों का इस्‍तेमाल और मिकदार कम कर सकें अथवा रचना के अंत में उर्दू शब्‍दों के मायने भी दें तो आपकी रचना उर्दूदां साहबानों तक महदूद न रह कर आमो-खास अवाम के लिए भी आनंददायक होगी. गुजारिश है.

    ReplyDelete
  8. बहुत कठिन रचना..यकीनन सुंदर होगी !

    ReplyDelete
  9. अच्छी नज्म....
    सादर।

    ReplyDelete
  10. इस नज़्म ने दिल को छुआ।

    ReplyDelete
  11. बहुत ही बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग

    विचार बोध
    पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  12. उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  13. अर्थ के बाद अब कुछ और दुरूह हो गया है मामला.

    ReplyDelete
  14. जाम मए-तरब
    हो मुबारक तुझे
    रहगुजर के खिजा
    खार दे दे मुझे
    शबे-इंतजार भी
    रौशन सहर लाये

    लाजवाब करती पंक्तियां।

    ReplyDelete
  15. शाम आती रहे
    बिन्ते-महताब बन
    रूए-ताबां रहे
    हश्र की रात तक
    ये अश्को-तबस्सुम का
    कारवां भी गुजर जाये

    बहुत सुंदर । प्रेम सरोबर पर आपका आमंत्रण है ।

    ReplyDelete
  16. देर से आने का लाभ ये हुआ कि इस खूबसूरत गज़ल का अर्थ समझकर आनंद की फुल डोज़ मिली, वरना कठिन शब्दों के अंदाजे लगाने पढते| कल ही एक गज़ल सुन रहा था, 'हश्र' में फिर मिलेंगे मेरे दोस्तों, बेसाख्ता याद आ गई सुबह सुबह|

    ReplyDelete
  17. सुन्दर शब्द मोती जैसे और रचना सुन्दर माला जैसी ...

    ReplyDelete
  18. दिए गये अर्थों के साथ पढ़ना अच्छा लगा..उम्दा..शुक्रिया..

    ReplyDelete
  19. शाम आती रहे
    बिन्ते-महताब बन
    रूए-ताबां रहे
    हश्र की रात तक
    ये अश्को-तबस्सुम का
    कारवां भी गुजर जाये
    बहुत सुंदर ...

    ReplyDelete
  20. नज़्म के भाव बहुत अच्छे लगे।

    ReplyDelete