गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Thursday, 6 June 2013

ठगा सा

ज़िन्दगी तेरा इंतजार आखरी साँस तलक 

*
ठगा सा रह जाता हूँ अकेला
जब तुम आँख चुराकर
मुझसे दूर चली जाती हो
फिर वापस न आने के लिये

**
दर्द कहाँ महसूस करता हूँ?
जब कोई अपना
बेगाना बनकर
मुस्कुराकर दिल दुखा जाता है

***
तिलमिला जाता हूँ
जब तुम आँखों में आंसू ले
पहाड़ी झरने सी
बह जाती हो मेरे ही सामने

****
सोचने लगता हूँ
जब दर्द तेरे हिस्से का
बाँट नहीं पाता
अपाहिज ज़िन्दगी ले

*****
नज़र आता नहीं
तेरा ही चेहरा
सामने रहकर भी
क्यूं धुंधला जाती है मेरी आँखे

******
धुंधला जाती है
आँखें मेरी
अश्क आँखों में तेरे
बर्फ से जम जाते है

*****
मौन हो जाता हूँ
यूँ अक्सर तन्हाई में
जब तेरी याद
किसी कोने में टहलती है

******
ज़िन्दगी तेरा इंतजार 
चंद लम्हों के लिये 
आखरी धड़कन में भी 
आखरी साँस तलक 

०६ जून २०१३
जिंदगी संग चलते चलते

चित्र गूगल से साभार

22 comments:

  1. मन भीगा हो प्यार में तो ऐसे ही भावों में गोते खाता है दिल...
    इन पंक्तियों में कहीं त्रुटि है ---

    धुंधला जाती है
    आँखें मेरी
    अश्क आँखों में तेरे
    बर्फ सी जम जाती
    ---
    अश्क आँखों में तेरे बर्फ से जम जाते हैं ..होना चाहिए [शायद]
    --------

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अल्पना जी आपका आभार कि आपने सही करवा दिया वरना हम पुल्लिंग को स्त्रीलिंग बना ही दिए थे आपका मार्गदर्शन और स्नेह सदा अपेक्षित

      धुंधला जाती है
      आँखें मेरी
      अश्क आँखों में तेरे
      बर्फ से जम जाते हैं

      Delete
  2. मौन हो जाता हूँ
    यूँ अक्सर तन्हाई में
    जब तेरी याद
    किसी कोने में टहलती है...कोमल भाव !

    ReplyDelete
  3. भावों का झरना, तरल-निर्मल.

    ReplyDelete
  4. बहुत ही कोमल भाव भरी सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  5. महसूस की हुई पंक्तियाँ लग रही हैं :)

    ReplyDelete
  6. मौन हो जाता हूँ
    यूँ अक्सर तन्हाई में
    जब तेरी याद
    किसी कोने में टहलती है.......sacchi bat .....

    ReplyDelete
  7. प्रेम का सन्देश है,अद्भुत परिवेश है ,विरह का स्वर है , संजोग का ज्वर है ।
    सोंधी सी खीर है ,अनकही पीर है ,तरकश का तीर है ,नयनों का नीर है ।
    गुड की मिठास है ,मिलन की आस है ,समय की सिकुडन है ,स्वतः से अनबन है ।
    नदी का बहना है ,अपने में रहना है , शब्दों की सिसकन है ,भावों की कसकन है ।
    भाई ! बडा धर्म-संकट म डार देथस ग !

    ReplyDelete
  8. हर एक खाने में एक अलग भाव लिये एक क्षणिका स्वतंत्र भाव लिये हुए भी एक मालिका की तरह सुशोभित हो रही है!!

    ReplyDelete
  9. कुछ तुम्हारी यादें और एक तुम्हारा इंतजार... इतना काफी है जीने के लिए... सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  10. कहाँ जा रहीं मुझे छोड़कर
    बिना कहे, कुछ ही बाला !

    शुभकामनायें आपको !!

    ReplyDelete
  11. बडा धर्म-संकट म डार देथस ग ! ;)

    ReplyDelete
  12. तिलमिला जाता हूँ
    जब तुम आँखों में आंसू ले
    पहाड़ी झरने सी
    बह जाती हो मेरे ही सामने
    मेरी समझ में कविता की आत्मा यही पंक्तियाँ हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. सर जी आपका कथन सत्य है कोई संदेह नहीं आपने सराहा सदा आभारी

      Delete
  13. तिलमिला जाता हूँ
    जब तुम आँखों में आंसू ले
    पहाड़ी झरने सी
    बह जाती हो मेरे ही सामने
    bhavna ke atirek se ot-prot abhivyakti .badhai

    ReplyDelete
  14. तुमान के आगे जटा शंकरी नदी याद आ रही है.

    ReplyDelete
  15. पीडा का सुख तो अवर्णनीय ही होता है।

    ReplyDelete
  16. नज़र आता नहीं
    तेरा ही चेहरा
    सामने रहकर भी
    क्यूं धुंधला जाती है मेरी आँखे ..

    अलग अलग एहसास उतारे हैं इन क्षणिकाओं में ...
    प्रेम का एहसास लिए ये भी लाजवाब है ...

    ReplyDelete