गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Monday, 12 November 2012

लम्हा-लम्हा



तू नहीं तेरी यादें नहीं
तो दिवाली कैसी?

तू नहीं तेरा चेहरा नहीं
तो फिर दिवाली मेरी?

तू है?
तेरी तन्हाइयों संग

ये दिवाली?
दिवाली मेरी?

लम्हा-लम्हा
गुजर गई ज़िन्दगी

सोचता हूँ तेरे बिन
कटेगी ये ज़िन्दगी?

रोशनी में कटती नहीं
अंधेरों में क्या खाक जी पाऊंगा

मेरी ज़िन्दगी को समर्पित
12नवम्बर 2012
चित्र गूगल से साभार

22 comments:

  1. रोशनी में कटती नहीं
    अंधेरों में क्या खाक जी पाऊंगा
    वाह .. बेहतरीन

    !! प्रकाश पर्व की आपको अनंत शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  2. किसी अपने के न होने पर उत्सव का आनंद कम हो जाता है..भावपूर्ण अभिव्यक्ति....
    आपको सहपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ..
    :-)

    ReplyDelete
  3. बहुत बढिया । आपको दीपावली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. भावपूर्ण अभिव्यक्ति .... दीपावली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  5. ऐसे में यादों के उजालों से रोशनी करनी होती है.
    ..........
    दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  6. इक वो भी दीवाली थी, इक ये भी दीवाली है
    हंसता हुआ गुलशन है, रोता हुआ माली है...

    ReplyDelete
  7. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति,,,
    दीपावली की ढेर सारी शुभकामनाओं के साथ,,,,
    RECENT POST: दीपों का यह पर्व,,,

    म्यूजिकल ग्रीटिंग देखने के लिए कलिक करें,

    ReplyDelete
  8. वक़्त के साथ चलना ही पड़ता है, यही जीवन है...मंगलमय हो दीपों का त्यौहार... आपको व आपके समस्त परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें......

    ReplyDelete
  9. आपके इस प्रविष्टि की चर्चा कल बुधवार (14-12-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी । जरुर पधारें ।
    सूचनार्थ ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका ह्रदय से आभार आपने इस योग्य समझा

      Delete
  10. बहुत सुंदर...आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  11. कांटे कांटे कांटे ,आये मेरे बांटे

    ReplyDelete
  12. आतिशबाजी का नहीं, ये पावन त्यौहार।।
    लक्ष्मी और गणेश के, साथ शारदा होय।
    उनका दुनिया में कभी, बाल न बाँका होय।
    --
    ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬●ஜ
    (¯*•๑۩۞۩:♥♥ :|| दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें || ♥♥ :۩۞۩๑•*¯)
    ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬●ஜ

    ReplyDelete
  13. रोशनी में कटती नहीं
    अंधेरों में क्या खाक जी पाऊंगा
    bahut sunder diwali ki shubhkamnayen
    rachana

    ReplyDelete
  14. सुन्दर भावाभिव्यक्ति....
    दीपोत्सव की हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  15. जलेगा आज फिर देखना , अँधेरे की छाती पर उजाले का दीया
    मुहब्बत की बाती ने है हर दीये में , रांझे का नाम लिख दिया

    आप मुहब्बत के दीये जलातें रहे ज़िन्दगी खुद ब खुद जीना सीख जाएगी .....!!

    ReplyDelete
  16. दीपोत्सव की हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  17. ***********************************************
    धन वैभव दें लक्ष्मी , सरस्वती दें ज्ञान ।
    गणपति जी संकट हरें,मिले नेह सम्मान ।।
    ***********************************************
    दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं
    ***********************************************
    अरुण कुमार निगम एवं निगम परिवार
    ***********************************************

    ReplyDelete
  18. सुंदर भावों में पिरोई गई आपकी रचना अच्छी लगी । मेरा नए पोस्ट बहती गंगा पर आप आमंत्रित हैं । धन्यवाद।

    ReplyDelete


  19. तू नहीं तेरी यादें नहीं
    तो दिवाली कैसी?

    तू नहीं तेरा चेहरा नहीं
    तो फिर दिवाली मेरी?



    …बहुत भावपूर्ण रचना है
    आदरणीय रमाकांत जी ! !
    मन तक पहुंचने वाले भाव …

    मुझे मेरी एक हरिगीतिका की दो पंक्तियां याद हो आईं
    सादर समर्पित है…
    तुम बिन हृदय व्याकुल - व्यथित है , व्यग्र बारंबार है !
    तुमसे दिवस हर इक दिवाली , तीज है , त्यौंहार है !


    आपकी अन्य रचनाएं भी समृद्ध भावपक्ष लिए हैं
    आभार …

    ReplyDelete


  20. बनी रहे त्यौंहारों की ख़ुशियां हमेशा हमेशा…

    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    ♥~*~दीपावली की मंगलकामनाएं !~*~♥
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    सरस्वती आशीष दें , गणपति दें वरदान
    लक्ष्मी बरसाएं कृपा, मिले स्नेह सम्मान

    **♥**♥**♥**●राजेन्द्र स्वर्णकार●**♥**♥**♥**
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ

    ReplyDelete