गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Thursday, 25 October 2012

मै हूँ ना



मेरी मृत्यु पर

* मत उठाना
मेरे प्यार को
बड़े जतन से सुलाया है
सहलाकर गेंसुओं को

* न करना बात
देख पाऊंगा
तपन चेहरे की
बंद आँखें हैं मेरी

* खिलाकर भोज
मेरी ज़िन्दगी को
दुखाना दिल भी
यूँ तुमको भाता है

* संदेशा देना वहां
जहाँ कोई बाट तके
बैठा रहे
बस द्वार पर

* न लेना और देना
आज ऐवज मेरे
खुली मुट्ठी
न बाँध पाऊंगा

* चलो बैठो
किसी दरख़्त के साये तले
करो तुम बात
मैं सुनता रहूँगा

* न गाना गीत
स्वर दे पाऊंगा
बंद होठ हिले तो
लोग खफ़ा होंगे

* चलो हंस लो
टोकना-रोकना
छोड़ा मैंने
तुम दिल की बात कहो

* न करना इंतज़ार
बड़ी मुद्दत के बाद
आई है नींद
सोने दे

* आज तुम हो
मै हूँ ना
तुम करो अपनी
कौन रोकेगा

* है पता मुझको
इंतज़ार किसको
मेरे आने-जाने
एक पल ठहरने का

* जाना है
चले जायेंगे
ये बेरुखी क्यूँ
हर घडी

22.10.2012
समर्पित * मेरी जिंदगी * को
जो मेरी जान और इमान  से भी
ज्यादा कीमती जिसके बिना
सब कुछ बेमानी सा लगता है

चित्र गूगल से साभार  

23 comments:

  1. bahut saree anubhutiyon ko smeta hai apni rachna men ...bahut acchi prastuti....kisi marmik prasang ka varnan lag raha hai ?

    ReplyDelete
  2. वाह ... बेहतरीन भाव लिये उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete
  3. कल 26/10/2012 को आपकी यह खूबसूरत पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन प्रस्तुति,,,,

    तेरे बगैर किसी चीज की कमी तो नही,
    तेरे बगैर तवियत उदास रहती है,,,,,,,,

    विजयादशमी की हादिक शुभकामनाये,,,
    RECENT POST...: विजयादशमी,,,

    ReplyDelete
  5. कागा सब तन खाइयो
    चुन चुन खाइयो मांस
    दो नैना मत खाइयो
    जिन्हें पिया मिलन की आस!!
    इस खूबसूरत रचना पर बस आँखें मूंदकर उन भावों को अंतस में उतारने की इच्छा हो रही है!!

    ReplyDelete
  6. क्या कहने...
    अति सुन्दर कोमल भाव लिए रचना..
    बहुत सुन्दर..
    :-)

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर भाव लिए उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति..

    ReplyDelete
  8. आपकी अधिकांश रचनाओं में निराशा का भाव वियोग श्रृंगार में पगा सा रहता है ऐसी भी क्या नाराज़गी अपने आप से.लगता है रचनाकार ने कभी गहरी चोट खाई है.क्षमायाचना सहित .सादर

    ReplyDelete
  9. गहन अभिव्यक्ति...सरल,स्पष्ट मन के भाव

    ReplyDelete
  10. सुंदर भाव http://www.kuldeepkikavita.blogspot.com

    ReplyDelete
  11. सुन्दर प्रस्तुति |

    ReplyDelete
  12. बहुत प्यारी रचना....
    हर लफ्ज़ दिल में उतर गया...
    * न गाना गीत
    स्वर दे पाऊंगा
    बंद होठ हिले तो
    लोग खफ़ा होंगे.............

    बेहद खूबसूरत!!!
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  13. अजीब दासतां है ये...

    ReplyDelete
  14. संवेदनशील रचना।

    ReplyDelete
  15. गहरे उतरती अनुभूति !

    ReplyDelete
  16. स्वर दे पाऊंगा
    बंद होठ हिले तो
    लोग खफ़ा होंगे...

    बेहद खूबसूरत!!!

    ReplyDelete
  17. http://bulletinofblog.blogspot.in/2012/10/blog-post_31.html

    ReplyDelete
  18. रचना के भावों को बस भाव ने ग्रहण किया और...नि:शब्द..

    ReplyDelete
  19. बात करना तब.. तुम मेरी...
    मैं सुनूँगी ज़रूर...
    तरसी हूँ कितना सुनने को तुम्हें...
    शायद एहसास ये तुम्हें...
    हो जाएगा उस दिन...
    मेरी जगह..
    जब तुम बोलते रहोगे..
    पूछते रहोगे कई सवाल...
    और खीजोगे...
    देखकर मेरे होठों पर...
    एक निश्चिंत...खामोश मुस्कान...
    ~माफ़ कीजिएगा सर ! आपकी रचना इतनी दिल को छू गयी.... कि मैनें जवाब में यही लिख दिया...
    ~सादर !

    ReplyDelete