गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Friday, 19 October 2012

जन्मदिन

जन्मदिन की शुभकामना 20.10.2012

मैंने जन्म ले लिया?
शास्त्रगत या वैज्ञानिक?
निर्धारित कर दिया गया?
जन्मतिथी, जन्मांक, मूलांक

अंकित कर?
काटा गया गर्भनाल?
मुक्त हो गया था मैं गर्भ से?
जन्म के योग से?

कहीं ऐसा तो नहीं?
हमने जन्म ही नहीं लिया
आपने समझ भर लिया
काट दिया गर्भनाल

डिम्बआसन  जुड़ा गर्भ से
गर्भनाल जुड़ा अपरा से
गर्भनाल से जुड़ा शिशु
तब जन्म कैसा?

यदि मैं मृत
तब जन्म?
भाग्य का निर्धारण किस आधार पर?
जब जन्म और मृत्यु एक ही पल में

जन्म शास्त्रसम्मत?
वा लोकसम्मत?
जैसे मृत्यु वैज्ञानिक
या शास्त्रसम्मत

जन्मतिथि का निर्धारण
जन्म समय का निर्धारण
प्राकृतिक जन्म पर?
या अप्राकृतिक कृत्य द्वारा?

जन्मतिथि और समय को ही
बदल डाला कृत्रिम उपादानों से
चिकित्सकीय सलाह पर
ग्रह, नक्षत्र, राशि को मांगकर?

कभी कभी जब घट जाता है
होनी जिसे अक्सर
कह देते हैं अनहोनी
आँख मूंदकर


किस अंक की गणना के आधार पर
ग्रह, नक्षत्र, राशि, कुंडली?
कैसी गणना?
जब आधार ही निराधार


बना दी कुंडली जो बतलाती है?
लिंग लड़का या लड़की
मृत या जीवित
विवाहित या अविवाहित

कालसर्प योग, विवाह
जन्म, मृत्यु
संस्कार, दान, पुण्य
सरल किन्तु सदा जटिल

एक आधारहीन
जन्मदिन, जन्म समय
जन्मांक, मूलांक
प्राण वायु के गणना पर?

20.10.2012
कुंडली की  धारणा सदैव भ्रमित करती है?
जन्मदिन, समय, कभी कभी असहज कर
देते है जीवन चक्र को तो मन प्रश्न कर उठता है

यह रचना मेरी मानस पुत्री *श्रीमती आभासिंह*
को उसके जन्मदिन 20 अक्टूबर 2012 को
सस्नेह समर्पित



20 comments:

  1. जन्म कैसा और मूलांक ,जन्मांक क्या . प्रश्न गंभीर है पर है ईमानदार.आज विज्ञान इतना आगे है कि प्राकृतिक प्रसव के समय - घंटे और दिनों को भी दवाओं और इंजेक्शनों की सहायता से एक सप्ताह तक आगे पीछे कर सकते हैं.सीजेरियन से होने प्रसव में तो हमेशा यह होता ही है तब जन्म लेने के अचूक या सटीक समय का निर्धारण कैसे किया जा सकता है.इस प्रश्न का जवाब भाग्य बांचने वालों द्वारा यह दिया जाता है कि जब माता के गर्भ से बाहर आया वह समय .लेकिन इसमें भी दो पेंच हैं - जब बाहर आया तब या जब गर्भनाल काटकर उसे एक स्वतंत्र और पूरी तरह अपने पर निर्भर जीव बनाया गया तात्पर्य यह कि गर्भनाल कटने तक उसे स्वतंत्र जीव माना जाये या नहीं इसके अलावा यदि दवाइयों के प्रयोग से या शल्य क्रिया से कुदरती तौर प्रसव का समय चिकित्सकीय आवश्यकताओं के कारण आगे पीछे किया गया हो तो क्या माना जाये जन्म का सही समय. ऐसे बहुत से प्रश्न हैं जिस पर मतभेद हो सकते हैं और बहस भी.लेकिन ये सभी फिर कभी.

    फ़िलहाल आपकी मानसपुत्री के जन्मदिन पर शुभकामनायें

    देखें शत शरदों की शोभा ,जियें सुखी सौ वर्ष
    नव वसंत के आँगन में सौ वसंत के हर्ष

    ReplyDelete
  2. अर्थपूर्ण ,विचारणीय रचना
    आभा को जन्मदिन की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. असहज कर देने वाले सहज सवाल.

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी रचना....
    बेहद अर्थपूर्ण..
    जन्मदिन की शुभकामनाएं हमारी ओर से भी...

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब...
    जन्मदिन कि हार्दिक शुभकामनाएँ...:)

    सादर |

    ReplyDelete
  6. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से आभार।

    ReplyDelete
  7. कहीं ऐसा तो नहीं?
    हमने जन्म ही नहीं लिया
    आपने समझ भर लिया
    काट दिया गर्भनाल ... वाह !

    मानस पुत्री आभा को शुभकामनायें

    ReplyDelete
  8. सामयिक कुप्रवृत्ति पर करारा वार -श्रीमती आभा सिंह जी के जन्म दिवस पर मेरी भी अनेकशः शुभकामनायें

    ReplyDelete
  9. जन्मदिन की बधाई आभा जी को !! शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन अभिव्यक्ति...
    आभा जी को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएँ...
    :-)

    ReplyDelete
  11. विचारणीय प्रश्न,,,,
    आभा जी को जन्मदिन की बहुत२ शुभकामनाएँ.,,,,

    RECENT POST : ऐ माता तेरे बेटे हम

    ReplyDelete
  12. आभा को सस्नेह आशीर्वाद !
    अभिवादन आपको !

    ReplyDelete
  13. मनुष्य प्रकृति के साथ छेड़ छाड़ कर स्वयं के लिए खाई खोद रहा है . सब लालच का परिणाम है .
    पुत्री आभा सिंह को जन्मदिन की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  14. आपके १०१ वे ब्लॉग पर हार्दिक बधाई

    अपूर्व सिसोदिया

    ReplyDelete
  15. प्राकृतिक घटनाओं को मनुष्य अप्राकृतिक बनाने की कोशिश कर रहा है।
    अच्छी रचना।

    ReplyDelete
  16. आपकी मानसपुत्री के जन्मदिन पर शुभकामनायें

    ReplyDelete
  17. आभा जी के जन्मदिन की आप सबको बहुद बधाई, विलंब के लिये क्षमाप्रार्थी।
    विजयादशमी पर्व की भी आप सबको हार्दिक बधाई एवम शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  18. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  19. प्रशंसनीय प्रस्तुति
    आभा जी को जन्मदिन की ....शुभकामनाएँ....!!!

    ReplyDelete
  20. विलम्ब से आने के लिए क्षमा-याचना के साथ आप सबों (मानस-पुत्री ) को अनंत शुभकामनाये..

    ReplyDelete