गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Saturday, 13 October 2012

संवाद


तुम जानती हो?
कि मैं सब कुछ जानता हूं

सब कुछ?

लेकिन तुम्हारी आँखों ने तो
कभी कुछ नहीं कहा

अरे तुम नहीं जानते?
मैं तो समझती थी

तुम समझती हो?
तुमने कहा और मैंने मान लिया?

मैंने ऐसा कब कहा?

तुम्हे अपने किये पर
कोई ग्लानि नहीं?



क्यों?
होना चाहिये?

नहीं मैं अपनी शर्तों पर
अपनी ज़िन्दगी जीती हूँ
मैं क्यों उसकी परवाह करूँ?
जिसे मेरी फिक्र नहीं

क्या यह एक छल नहीं?

ऐसा तुम सोचते हो
मैं नहीं

ये तुम्हारी नादानी वा जिद?

बिलकुल नहीं

यह एक शैली है
जीवन शैली

मैं अब तुमसे पूछती हूं
तुम्हे संकोच
या कभी ग्लानि
तब मैं क्यों
अपना जीवन खपाऊँ?

आर या पार
जीवन कहाँ बार-बार


चित्र गूगल से साभार


18 comments:

  1. मैं अब तुमसे पूछती हूं
    तुम्हे संकोच
    या कभी ग्लानि
    तब मैं क्यों
    अपना जीवन खपाऊँ?

    बहुत सुंदर भावमय अभिव्यक्ति ,,,,,,

    MY RECENT POST: माँ,,,

    ReplyDelete
  2. सीमित संवाद में जीवन को विस्तार से रख दिया है आपने.. बहुत ही अच्छी रचना..

    ReplyDelete
  3. भावपूर्ण सुन्दर संवाद..

    ReplyDelete
  4. सही है ...
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब!! पूरा व्यक्तित्व उभर कर आया इस कविता में!!

    ReplyDelete
  6. भूलभुलैया में से निकलती राह.

    ReplyDelete
  7. खूबसूरती से लिखा है मन में उठाते संवाद को

    ReplyDelete
  8. एक अन्तरद्वन्द जो सार्थक अंत लिए हुए...बहुत खूब |

    सादर |

    ReplyDelete
  9. मानो न मानो
    जानो न जानो।
    कभी कभी सवाल ही सवाल का उत्तर बन जाते हैं।

    सिंह साहब, नये शतक के लिये गार्ड्स लीजिये। पिछले के लिये बधाई, अगले\अगलों के लिये आनुज की तरफ़ से हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  10. भावमय अभिव्यक्ति...
    दिल को छूने वाली...

    ReplyDelete
  11. बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत ही भावनामई रचना.बहुत बधाई आपको

    ReplyDelete
  12. हमारे अपने ही छलने के लिए
    ,पर फिर भी पांव चलने के लिये
    और हाथ मलने के लिए
    जीवन शैली क्या इसी का नाम है ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. सर यूँ ही आपका मार्गदर्शन मिलता रहे .

      Delete
  13. वाह ...बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  14. सच! जीवन सिर्फ़ एक ही बार...कहाँ बार-बार ...

    ReplyDelete