गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Tuesday, 21 August 2012

दशा

1

धरती ने सूरज से कहा
तुम सदा
पूरब से ही क्यों निकलते हो?
बदलकर देखो अपनी दिशा?
एक बार

2

भूखा कभी भूख की
परिभाषा लिख पाता है?
भर पेट भूख को
परिभाषित कर जाता है

3

अरे नादां
पैर के नीचे
धरती
सिर के ऊपर
आसमां
फिर तू कैसे
हो गया महान?

21.08.2012
चित्र गूगल से साभार

25 comments:

  1. क्या बात है.. गहरे अर्थों को समेटे सीधी सच्ची क्षणिकाएं!!

    ReplyDelete
  2. अरे नादां
    पैर के निचे
    धरती
    सिर के ऊपर
    आसमां
    फिर तू कैसे
    हो गया महान?

    इतना ही तो समझ नहीं पा रहे है.....

    ReplyDelete
  3. भूख और उपजी क्षणिका बेहद प्रभावित करती है।

    ReplyDelete
  4. अच्छी क्षणिकाएं रचनाओं की एकरसता तोड़ने के लिए बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
    2. सर आप अपने वादे को ध्यान नहीं दे रहे हैं यह दिल तोड़ने वाली बात नहीं वादा खिलाफी के अंतर्गत आता है कृपया प्रेम पत्र लिख ही डालिए .

      Delete
  5. वाह,,,, बहुत खूब मन को प्रभावित करती सारगर्भित क्षणिकाएं,,,,रमाकांत जी,,,,

    RECENT POST ...: प्यार का सपना,,,,

    ReplyDelete
  6. भर पेट भूख को
    परिभाषित कर जाता है-

    वाह! वाह! वाह!!
    एक अमिट सत्य लिख दिया.

    ReplyDelete
  7. "भूखा कभी भूख की
    परिभाषा लिख पाता है?
    भर पेट भूख को
    परिभाषित कर जाता है"


    सच बात कही है सर!

    सादर

    ReplyDelete
  8. सभी क्षणिकाएं सार्थक और सारगर्भित है.. बहुत सुन्दर.. आभार..

    ReplyDelete
  9. आपकी क्षणिकाएं, ''देखन में छोटे लगें...'' जैसी असरदार हैं.

    ReplyDelete
  10. वाह ... बहुत ही बढिया

    ReplyDelete
  11. भूखा कभी भूख की
    परिभाषा लिख पाता है?
    भर पेट भूख को
    परिभाषित कर जाता है

    वहुत गंभीर मर्मयुक्त रचनाएं .....

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर क्षणिकायें...भूखे के लिये रोटी ही परिभाषा है..महान होने की अभिलाषा ही तो नचाती है मानव को..

    ReplyDelete
  13. जीवन से जुडी सुन्दर क्षणिकाएं .

    ReplyDelete
  14. कल 24/08/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर और अर्थपूर्ण क्षणिकाएं.....
    बहुत बढ़िया..

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  16. सुन्दर क्षणिकाएं .

    ReplyDelete
  17. वाह सर जी..
    बहुत बेहतरीन क्षणिकाएं है..
    अति उत्तम...
    :-)

    ReplyDelete
  18. तीनों रचनाओं के प्रश्न सारगर्भित हैं. बहुत अच्छी रचना, शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  19. प्रभावशाली क्षणिकाएं..

    ReplyDelete