गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Friday, 17 August 2012

विक्रम और वेताल 3


इस बार वेताल ने हठ न छोड़ा
निद्रा लीन विक्रम को उठाकर
कर ली सवारी कंधे की
राजन ये रेपीड फायर राउण्ड है
न रोकना न टोकना
तुम्हारा समय शुरू होता है अब

आसान है किसी रिश्ते को बनाना?
निभाना उससे कठिन?
बनाये रखें चिर स्थाई?
कितना सहज, सरल, कठिन, वा सुगम
रिश्तों में स्वार्थ?
या स्वार्थ पर रिश्ते
हम भी सीखें
रिश्तों का उपयोग दुरुपयोग?
वर्तमान से भविष्य तक?

रिश्तों की बाध्यता कब और कैसे?
नैसर्गिक रिश्ते ज्यादा मजबूत?
रहते हैं बिना स्वार्थ?
न बाध्यता न अनिवार्यता
रहें सदा जवाबदेह?
क्यों किसी की निष्ठा पर प्रश्न?

कोई सीमा या लिहाज?

बिखर जाते हैं
रिश्ते बनाम संबंध?
छवि टूटती है?
टूटन पर फर्क पड़ता है
परिणीति हत्या, आत्महत्या, पीड़ा?
मृत्यु सी भयावह?

रिश्तों का खेल बड़ा कठिन होता है?
पारिवारिक-व्यक्तिगत संबंधों का
सामाजिक-राजनैतिक कह दें
या धार्मिक प्रतिद्वन्दिता का?
पति-पत्नी, प्रेमी-प्रेमिका का
बन जाता है आसानी से
बिन कहे लपटों में बाप-बेटी भी?
भाई-बहन क्यों संदिग्ध?
इस मायाजाल से मुक्त
मां-बेटे का पवित्र रिश्ता?

कब, क्यों, किन हालात में?
इसकी प्रतीति है होती?
खुल जाती हैं कड़ियां?
बिखरती हैं लड़ियां?
बना रह पाता है
रहस्य पर रहस्य?
रिश्तों की गरिमा?
बरसों की कमाई छवि?
रिश्ते और विश्वास?
छन्न छनाक के बाद
दृष्टिगोचर मूलस्वरूप?

राजन
कहीं ऐसा तो नहीं?
हम अच्छे हैं मायने नहीं रखता?
हमें अच्छा दिखना चाहिए
बन गया है मानदण्ड?
या फिर हमें?

चलो छोड़ो

तुम दो मिनट बैठ चिंतन करो
मैं 120 घंटे में आता हूं

चित्र गूगल से साभार 
23.03.2011

28 comments:

  1. एक सौ बीस घंटों में भी चिंतन खतम होगा, नहीं लगता...
    सुंदर रचना....
    सादर।

    ReplyDelete
  2. वेताल का एक और जाल.....इससे तो बाहर निकलना असंभव,,

    सुन्दर रचना
    अनु

    ReplyDelete
  3. शरभंग हो इन दुश्चिंताओं का.

    ReplyDelete

  4. कहीं ऐसा तो नहीं?
    हम अच्छे हैं मायने नहीं रखता?
    हमें अच्छा दिखना चाहिए
    बन गया है मानदण्ड?

    Waah.... Gahan Chintan liye Panktiyan

    ReplyDelete
  5. विक्रम और बेताल का,तिलस्मी माया जाल
    इससे निकलना मुश्किल,लगता है फिलहाल,,,,

    RECENT POST...: शहीदों की याद में,,

    ReplyDelete
  6. हम अच्छे हैं मायने नहीं रखता?
    हमें अच्छा दिखना चाहिए bahut achchi pangti......

    ReplyDelete
  7. अक्सर जो होता है वह दिखता नहीं है और जो दिखता नहीं है वह हो भी सकता है

    ReplyDelete
  8. रिश्ते स्वतः बनते हैं जन्म से , निभे - यह कहना जन्म लेने की शर्त नहीं होती , मौत भले हो जाए

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर भाव से सजी रचना

    ReplyDelete
  10. विश्वास की मज़बूत डोर से बंधे रिश्ते बिखरते नहीं जन्मों तक निभाए जाते हैं... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  11. 120 घंटे ..कुछ ज्यादा तो नहीं है..वैसे बहुत ही सुन्दर , सारगर्भित संवाद..

    ReplyDelete
  12. समकालीन सच्चाईयों और विद्रूपों और विरूपताओं को समेटे एक मौलिक काव्य श्रृखला

    ReplyDelete
  13. रिश्तों की बाध्यता कब और कैसे?
    नैसर्गिक रिश्ते ज्यादा मजबूत?
    रहते हैं बिना स्वार्थ?
    न बाध्यता न अनिवार्यता
    रहें सदा जवाबदेह?
    क्यों किसी की निष्ठा पर प्रश्न?...बहुत ही सुन्दर, सारगर्भित रचना..

    ReplyDelete
  14. रिश्तों के मकडजाल का उतने ही कॉम्प्लेक्स तरीके से वेताल के माध्यम से बयान किया है आपने.. मगर राजन का उत्तर जानने की जिज्ञासा बनी हुई है!! देखें राजन का सिर टुकड़े-टुकड़े होता है या ..... !!

    ReplyDelete
  15. मेरे कमेन्ट को स्पैम मुक्त करें!!

    ReplyDelete
  16. तुम दो मिनट बैठ चिंतन करो
    मैं 120 घंटे में आता हूं
    विचारोत्तेजक रचना। बिम्बों का उत्तम प्रयोग। हम सब इस मायाजाल में उलझे ही रहते हैं।

    ReplyDelete
  17. उलझनों में उलझने...प्रश्न में प्रश्न छुपे हैं.
    उतर की तलाश में..हर मन अलग जवाब लिए बैठा होगा.
    गहन अर्थ लिए उत्तम कविता..

    [चित्र पहले वाला बेहतर था ..यह नया चित्र तो भयावह है!]

    ReplyDelete
  18. विक्रम हठी है, दो मिनट चिंतन करेगा और 120 घंटे के बाद फिर अपनी ड्यूटी शुरू कर देगा|

    ReplyDelete
  19. तुम दो मिनट बैठ चिंतन करो
    मैं 120 घंटे में आता हूं
    आपकी यह प्रस्‍तुति बहुत ही अच्‍छी लगी ..
    आभार

    ReplyDelete
  20. कल 19/08/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  21. बहुत अच्छी रचना है |
    आशा

    ReplyDelete
  22. बहुत ही गहन भावो को समेटे ...
    बेहतरीन रचना....

    ReplyDelete
  23. सार्थक एवं प्रेरणादायी।

    ईद की दिली मुबारकबाद।
    ............
    हर अदा पर निसार हो जाएँ...

    ReplyDelete
  24. टूटन पर कष्ट बहुत होता है ...
    आभार !

    ReplyDelete
  25. सुन्दर प्रस्तुति। मरे पोस्ट पर आपका आमंत्रण है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  26. सुन्दर प्रस्तुति। मरे पोस्ट पर आपका आमंत्रण है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  27. waah waah kya kahne..........
    bahut khoob

    ReplyDelete
  28. 'अच्छा' बनाम 'अच्छा दिखना' ! - अब सिर्फ अच्छा होने से काम नहीं चलता. बिन मार्केटिंग सक्सेस नहीं !

    ReplyDelete