गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Friday, 27 April 2012

हिंसा

खून खराबा और तबाही लेकर
आया हमारा हमदर्द बनकर
जुल्म और अत्याचार के दौर में
रौशनी के सहर के वादे संग
लेकर आ गया हिंसा और
आतंकवाद
स्वाधीनता के इतने सालों बाद भी

और हम आरोप-प्रत्यारोप में उलझे
बस सियासी आपाधापी में
दांव-पेंच लड़ाते
अहंकार में डूबे
पाक दामन बने
नफरत से सने

हम सब निर्विकार
समस्याओं संग जस के तस
विश्वास के साथ कफन ओढ़े
क्यों इंसान होने की घोषणा करते हैं?


08/08/1995
अपहरण और फिरौती पर सार्थक, ठोस,
सर्वकालिक कदम की अपेक्षा में
राष्ट्र प्रमुख, तथाकथित जननेताओं,
रोटी सेंकने वाले बिचौलियों, और
सचमुच समस्या के हल में समर्पित
लोगो को एक निवेदन,
चित्र गूगल से साभार

18 comments:

  1. हम सब निर्विकार
    समस्याओं संग जस के तस
    विश्वास के साथ कफन ओढ़े
    क्यों इंसान होने की घोषणा करते हैं?

    ज्वलन्त प्रश्नमय कविता...मर्मस्पर्शी...

    ReplyDelete
  2. वाकई हम इंसान है तो इंसानियत कहाँ है????

    इस सार्थक रचना के लिए बधाई.
    सादर.

    ReplyDelete
  3. हम सब निर्विकार
    समस्याओं संग जस के तस
    विश्वास के साथ कफन ओढ़े
    क्यों इंसान होने की घोषणा करते हैं?
    ....एक सशक्त रचना रमाकांत जी

    ReplyDelete
  4. सुंदर प्रस्तुति,एक अच्छी सशक्त रचना....रमाकांत जी,...



    RESENT POST काव्यान्जलि ...: गजल.....

    ReplyDelete
  5. क्यों इंसान होने की घोषणा करते हैं?

    प्रभावित करता है ये सवाल और इससे जुड़े आपके भाव....

    ReplyDelete
  6. हम सब निर्विकार
    समस्याओं संग जस के तस
    विश्वास के साथ कफन ओढ़े
    क्यों इंसान होने की घोषणा करते हैं?
    सार्थकता लिए हुए सटीक लेखन ।

    ReplyDelete
  7. कवि के अंदर की बेचैनी, एक छटपटाहट खुल कर अभिव्यक्त हो रही है।

    ReplyDelete
  8. बहुत सटीक और सार्थक लेखन.

    ReplyDelete
  9. वर्तमान दौर का बेबाक चित्रण।

    ReplyDelete
  10. भेडिया हँसता है,तुम मशाल जलाओ
    तुममे और भेडिये में यही फर्क है

    भेडिया मशाल नहीं जला सकता

    ReplyDelete
  11. क्यों इंसान होने की घोषणा करते हैं?

    बहुत सुंदर....शुभकामनायें भैया !

    ReplyDelete
  12. प्रवाहमयी...सशक्त..गहन भाव लिए रचना.

    ReplyDelete
  13. क्योंकि अपने आप को हम मानते इंसान हैं ...

    यह विषय मन को छू गया भाई ...इस पर गीत लिखने का दिल करता है !
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete