गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Monday, 15 July 2013

परी / FAIRY QUEEN



उतरकर  स्वर्ग से नीचे
जमीं पर पांव धर लो?
सहचरी हो मेरी
मैं जानता हूं तुम्हे

न पूजो मानकर ईश्वर
न बन साधिका तुम विचरो
सृजन संकल्प ले जग का
श्रृष्टि संताप हरने को

भटकती प्रेम की खातिर
धरकर रूप माया का
बन घन आसमां में
नित निज प्रेम पथ पर

जब कभी आसमां से
मिलन के रंग डूबी
वसुधा पर उतरती
विव्हल उन्मुक्त गति ले

बिन बूझे अमंगल को
श्रृष्टि को भाव मंगल से
प्रेम से सिक्त कर जाना
नियति है तुम्हारी

जन्म से तुम मधुर हो
जानता है जगत तुमको

उफनती गिरि धरा से
नदी बन हो तरंगित
सदा मिलने समंदर से
प्रतीक्षा में प्रिय के

संज्ञा शून्य, महा ठगिनी
उद्विग्न और चंचल
कहां फिर जान पाती हो
दिव्य अपनी नियति को ?

गगन से शून्य तक भटकाव
और अस्तित्व के ठहराव में

अम्बर से उतरकर
तुम्हारी मधुरता
विलीन हो जाती है
समुद्र से मिलकर

प्रलय और सृजन का
तुम्हारा चंचल सौन्दर्य
और सम्मोहक भाव देख
थम जाता है काल भी

भर जाता है न खारापन?

प्रलय मैं सह नहीं सह सकता
सृजन तुम कर नहीं सकती

परी सी स्वर्ग से नीचे
जमीं पर पांव मत धरो
विचरो आसमां में तुम
सदा ही आसमां के पास

मैं खुश हूँ
आज भी हर पल
धरा से देखकर तुमको
मेरा सिर गर्व से तना


०६ जुलाई २०१३

23 comments:

  1. मैं खुश हूँ
    आज भी हर पल
    धरा से देखकर तुमको
    मेरा सिर गर्व से तना...

    बहुत खूब,सुंदर प्रस्तुति,,,

    RECENT POST : अपनी पहचान

    ReplyDelete
  2. पुराने प्रेम-पत्र की तरह भावपूर्ण.

    ReplyDelete
  3. प्रलय मैं सह नहीं सह सकता
    सृजन तुम कर नहीं सकती..

    मंगलकामनाएं..

    ReplyDelete
  4. प्रलय और सृजन का
    तुम्हारा चंचल सौन्दर्य
    और सम्मोहक भाव देख
    थम जाता है काल भी
    प्रकृति देवी को समर्पित सुंदर भाव सुमन...

    ReplyDelete
  5. मैं खुश हूँ
    आज भी हर पल
    धरा से देखकर तुमको
    मेरा सिर गर्व से तना
    बहुत ही भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  6. prem ki khushbu se sarabor ..sundar rachna..

    ReplyDelete
  7. कल 18/07/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. यशवंत माथुर जी आपके सहृदयता और ***परी*** को नयी पुरानी हलचल में शामिल करने के लिए आभार

      Delete
  8. वाह ; बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  9. बिन बूझे अमंगल को
    श्रृष्टि को भाव मंगल से
    प्रेम से सिक्त कर जाना
    नियति है तुम्हारी

    ये काम प्रेम का है ... जो रहता है सहचरी के साथ ... जीवन में आता है पल पल ...
    भाव मय ...

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर पंक्तियां ....

    ReplyDelete
  11. अच्छी रचना...अंतिम पंक्तियाँ तो बहुत ही अच्छी लगीं.

    ReplyDelete
  12. प्रलय और सृजन ...
    अति सुन्दर !

    ReplyDelete
  13. अहा! अति सुन्दर काव्य-कृति.. आनंद से अभिभूत हुई..

    ReplyDelete
  14. प्रलय और सृजन अदबुद्ध काव्य कृति...आभार

    ReplyDelete
  15. निसंदेह साधुवाद योग्य लाजवाब अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  16. किस पारी की बात हो रही है रमाकांत जी ....?

    बहरहाल शब्दों की अच्छी कलाकारी की आपने ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया हरकीरत * हीर * जी आपने कल्पना और प्रेम को छूने की कोशिश की आपकी पारखी नज़रों को प्रणाम

      Delete
  17. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  18. बिल्कुलसही बहुत सुंदर अभिव्यक्ति .....!!

    ReplyDelete
  19. शायद पहली बार आना हुआ आपके ब्लॉग में,
    बहुत सुंदर रचना

    आभार...

    ReplyDelete