गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Saturday, 22 December 2012

विक्रम वेताल 7

यत्र नार्यस्त पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवताः?

राजन क्या आप ही
न्याय प्रिय विक्रमादित्य हो?
न्याय और विद्वान के संरक्षक?
तब आज जिह्वा पर ताला क्यों?

क्या बलात्कारी आपका पुत्र?
या आपका हितैषी?
राजदार जो संकट मोचक?
या जोरू का भाई?

क्या उसे कल भारत रत्न देना है?
या किसी महापुरूष की संतान?
है कोई  युग पुरुष?
जिसे फांसी  दे देने से

मानवता कलंकित हो जाएगी?

लोग सड़क पर उतरें?
एवज में बेटी के बलात्कार के?
क्यों कोई मुह ताके न्याय के?
न्याय बिन गुहार के मिले?

उम्र कैद उचित?
या तथाकथित अंग भंग?
या मानवाधिकार का सहारा लें?
बचा डालें अपनी बहन सौपने कल?

गैंग रेप कोई महान कृत्य?
जिस पर बहस ज़रूरी?

फांसी के अतिरिक्त कोई अन्य सजा कारगर?
संविधान में संशोधन ज़रूरी?

राजन
भोथरी हो गई तुम्हारी तलवार?
आज कोई गड़रिया चढ़ेगा टीला पर?
राजा भोज खोजेगा सिहासन बत्तीसी?

शायद त्वरित उचित न्याय ही रोके
जन आक्रोश और बलात्कार

21.12.2012
यह रचना *** अस्किनी *** संग 
हर बेटी, बहन, माँ, को समर्पित
चित्र गूगल से साभार
  

19 comments:

  1. शायद त्वरित उचित न्याय ही रोके
    जन आक्रोश और बलात्कार,,,,,,,

    सटीक सार्थक प्रस्तुति,,,,बधाई रमाकांत जी,,,

    ReplyDelete
  2. Rarest of the rare????
    क्या करेगा चमत्कार... चिंता जायज़ है... गहन अभिव्यक्ति... आभार

    ReplyDelete
  3. सच्‍चा न्‍याय और व्‍यवस्‍था तो वही, जो ऐसी स्थिति न आने दे.

    ReplyDelete
  4. न्याय व्यवस्था में उपयुक्त शोध की आवश्यकता है..
    तभी ऐसे कुकर्मी डरेंगे....

    ReplyDelete
  5. आज कोई गड़रिया चढ़ेगा टीला पर?

    विक्रम की आँखों पर बंधी पट्टियाँ खोलने

    ReplyDelete

  6. दिनांक 24/12/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. यशवंत माथुर जी आपका ह्रदय से आभार

      Delete
  7. तलवारों में जंग लग गया है ,डरपोक हो गए हैं लोग.
    कहीं अन्याय होते देख नज़र चुरा कर चले जाते हैं ,कोई डर है..और इस डर को निका लने के लिए समाज में चेतना लानी ज़रुरी है ,न्याय और कानून व्यवस्था में विश्वास लाना ज़रुरी है उस के लिए आवश्यक हैं अति शीघ्र कुछ संशोधन .

    ReplyDelete
  8. आक्रोश मिश्रित विवशता का अजीब माहौल है। कितने प्रश्न और कितनी आशाएं मुंह बायें खड़ीं हैं, परन्तु जवाब अब तक शून्य है । एक लहर आई है बदलाव लाने की, कहीं ये भी टूट कर बिखर न जाए। मन भय से आशंकित है, कहीं क्रान्ति विफल न हो जाए।

    ReplyDelete
  9. सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार हम हिंदी चिट्ठाकार हैं

    ReplyDelete
  10. सारे प्रश्न सार्थक. मेरे ख़याल से एक अति त्वरित न्यायिक कारवाई हो और इन्हें सरेआम फांसी पर चढ़ाना जाना चाहिए और शव को सागर में बहा देना चाहिए क्योंकि इनके आखिरी निशाँ भी मिटटी को कलंकित कर देंगे.

    ReplyDelete
  11. सार्थक रचना

    ReplyDelete
  12. बहुत सारे प्रश्न .... उत्तर एक कानून में संशोधन .... ऐसे कृत्यों पर न्याय प्रक्रिया त्वरित हो ... दंड विधान हो ऐसा कि लोग डरें .... सौ बार सोचें ऐसा कुछ करने से पहले । बलात्कार को मात्र क्षणिक आवेश न समझा जाए ।

    ReplyDelete
  13. इस प्रकारकी घटनाओं का स्थाई हल ढूंढना जरुरी है !
    सार्थक रचना ...

    ReplyDelete
  14. त्वरित उचित न्याय ...
    पर क्या मिल सकेगा आज के राजनितिक माहोल में ...
    सार्थक चिंतन करती रचना ...

    ReplyDelete
  15. सुन्दर सार्थक रचना |

    ReplyDelete
  16. सही सवाल उठाया है आपने! आज के इस दौर में अब हर लड़की को खुद ही दुर्गा बनना होगा और सामना करना होगा ऐसे राक्षसों का
    तभी मिलेगी नयी राह !! ,

    अपना आशीष दीजिये मेरी नयी पोस्ट

    मिली नई राह !!

    ReplyDelete
  17. गुनाह सामने ! गुनहगार सामने ! फिर क्या सोचना ? कैसा केस ? कैसी सुनवाई ?
    होना चाहिए, तो सिर्फ़ और सिर्फ़... सज़ा ! फिर देरी किस बात की... :(((
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  18. त्वरित आक्रोश के दौर से इतर अब सोचने विचारने का समय है।

    ReplyDelete