गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Thursday, 6 September 2012

क्षितिजा

तुमने हर बार मुझे पुकारा
क्षितिजा-क्षितिजा-क्षितिजा

हम मिले
जमीं और आसमां की तरह
तुमने कब याद रखा?
मैं मिली तुमसे
पहाड़ों के सर्पिल मोड़ पर
चांदनी की रोशनी में
ख़ुशी में झूमते
ग़मों से दूर गाफिल
संग-संग मुस्कुराते
काले घने बादलों के बीच
कह दिया तुमने
क्षितिजा
तब भी मुझे

हम कभी मिले
समंदर की लहरों पर
सूरज की किरणों संग
इन्द्रधनुष बन
सुबह की ओस में
भीगी संध्या में
भीनी पुरवईया में
हर बार तुमने
पुकारा मुझे
क्षितिजा-क्षितिजा-क्षितिजा

मैं जीना चाहती हूँ
हर जनम
क्षितिज दर क्षितिज
तुम्हारी ही क्षितिजा बन

23.08.1998
चित्र फ्लिकर से साभार

24 comments:

  1. क्षितिज -जहाँ धरती और आकाश जुड़ते है और क्षितिजा ? वह जो धरती को आकाश से मिला कर सारी दूरियां मिटा दे
    . इस तरह कि धरती ,न धरती रहे .न आकाश,आकाश

    ReplyDelete
  2. वाह ...
    बहुत खूबसूरत एहसास...

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  3. किन्‍तु क्षितिज सी दूर रही है, मुझसे मेरी मधुशाला.

    ReplyDelete
  4. भुत सुंदर भाव और शब्द रचना ...

    ReplyDelete
  5. मैं जीना चाहती हूँ
    हर जनम
    क्षितिज दर क्षितिज
    तुम्हारी ही क्षितिजा बन
    वाह ... बेहतरीन भाव

    ReplyDelete
  6. क्षितिजा.... उसकी बातें तो बड़ी सुन्दर हैं ...भाव भी आकंठ प्यार में डूबे हुए ...क्या वह अपनी बातों जैसी ही प्यारी है ...

    ReplyDelete
  7. दिगभ्रमित हो गया हूं.....अभी हालात ये है कि लगता है क्षितिजा से कई बार मिला हूं....पर दिमाग अब भी कह रहा है काहे को मुगालते में हो..मगर दिल है कि मानता ही नहीं....। क्षितिजा को अब क्षितिजा कहूं या न कहूं ये भी समझ नहीं आ रहा।

    ReplyDelete
  8. वह क्षितिजा - जो भ्रम से परे सत्य है

    ReplyDelete
  9. मैं जीना चाहती हूँ
    हर जनम
    क्षितिज दर क्षितिज
    तुम्हारी ही क्षितिजा बन....बहुत सुन्दर भाव..

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर भाव बेहतरीन प्रस्तुति ........................

    ReplyDelete
  11. क्षितिज को देखा इस निगाह से भी..
    क्षितिज..धरती अम्बर का मिलन..भ्रम ...
    बहुत ही खूबसूरत लगी कविता..

    ReplyDelete
  12. अहसासों की बहुत सुन्दर और बेहतरीन अभिव्यक्ति...
    :-)

    ReplyDelete
  13. wah kshitija to kshitija hi lagati hai ,,,,,han bhai aisa lagata hai ki hm kshitij tk pahuchenge jaroor pr jb umr ke padav pr hm kshitij ko dhoodhne nikalate hain to vh abhi bhi utani hi door dikh rahi hai ,,,kahi,,,,kshitij ko chhona kori kalpna nahi ,,,,,,sabit hogi .....fil hal ap jaise mahan kvi ki divy drishti nishchay hi kshitija ko dhoodh nikalegi ....sb kuchh hasne ke liye hai anytha mt lijiyega..

    sundar rachana ke liye sadar abhar,

    ReplyDelete
  14. सुंदर भाव, सुंदर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  15. सुन्दर भाव को सुंदरता के साथ पिरोया है..

    ReplyDelete
  16. क्षितिजा-क्षितिजा-क्षितिजा SSSSSSSSSSSSSS

    कहाँ हो भई ....:))

    ReplyDelete
  17. ख्यालों में जैसे उड़ रहा हूँ ... क्षितिज़ा को पुकारता पर मेरी क्षितिज़ा जो मरी कल्पना में है ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  18. सुन्दर भावों से सजी रचना

    ReplyDelete