गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Friday, 4 October 2013

वोट / पात्रता

एक ही सार्वभौमिक परिचय पत्र जारी किया जाये


यदि ऐसा हो भारत वर्ष में 

एक ही सार्वभौमिक परिचय पत्र जारी किया जाये
परिचय पत्र इन्टरनेट पर प्रकाशित हो
*परिचय पत्र PAAS PORT की भांति अनिवार्य हो
*किसी भी भारतीय को इसी परिचय पत्र द्वारा वोट डालने का अधिकार हो
*परिचय पत्र अनिवार्य हो
*NO WORK NO PAY की भांति नियम हो NO VOTE NO RIGHT
*VOTING न करने पर समस्त मौलिक अधिकार भी SUSPEND कर दिये जायें
*परिचय पत्र के अभाव में किसी भी प्रकार के कार्य {GOVERMENTAL}की पात्रता न हो
*वोट / पात्रता का नियम हो आप किसी एक प्रतिनिधि का चुनाव करें ही
*राष्टपति से लेकर आम जनता का वोट डालना अनिवार्य हो
*वोट न डालना किसी अपरिहार्य कारणवश ही मान्य माना जाये
*नियम मुख्य चुनाव आयुक्त से लेकर चुनाव कर्मचारी पर भी लागू हो
*महिलाओं को वोट डालना अति अनिवार्य किया जाये
*कोई भी वैध व्यक्ति कहीं से भी अपने वोट डाल सके
*चुनाव सम्बन्धी फैसला ४ माह में निरंतरता में देना भी अनिवार्य हो
*किसी भी व्यक्ति को अधिकतम दो टर्म के लिए ही चुनाव लड़ने की पात्रता हो
* किसी प्रलोभन या पैसा के बल पर लड़ा चुनाव सिद्ध होने पर अवैध हो
*किसी भी अन्य व्यक्ति द्वारा चुनाव प्रचार अवैध माना जाये
* चुनाव प्रचार पर खर्च सीमा ४ लाख प्रति विधान सभा से अधिक न हो
*कम से कम १०००० लोगों के समर्थन पत्र के बाद ही प्रत्याशी माना जाये
*कोई भी व्यक्ति एक ही स्थान से चुनाव लड़ सकता है
*****मतदान न करना राष्ट्र द्रोह की श्रेणी में रखा जाये 
आप भी अपने विचार इसी कड़ी में सकारात्मक जोड़ सकते हैं
आपके नकारात्मक विचारों से मैं वाकिफ हूँ

बाकी कुछ हो न हो ये ज़रूर होने की संभावना होगी?

1 ९५ प्रतिशत मतदान की संभावना
2 मतदान की शक्ति का सही आंकलन
3 गलत मतदाता और बाह्य व्यक्ति की  पहचान
4 जनगणना की सत्यता का सही आंकलन
5 भारत की अस्मिता की रक्षा
6 न्याय व्यवस्था को संबल
7 अर्थ व्यवस्था को नया संबल
8 मतदान के अनैतिक खर्च में पूर्ण कटौती

04 OCTOBER 2013





16 comments:

  1. आपकी सजगता मुझे अच्छी लगी ।

    ReplyDelete
  2. अपने देश में जिस दिन ९०-९५ %मतदान होने लगेगा देश का नजारा ही बदल जाएगा ,

    RECENT POST : पाँच दोहे,

    ReplyDelete
  3. बढ़िया सुझाव .
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  4. काबिले तारीफ़ सुझाव हैं ..लोग सिस्टम की खामियां गिनाते हैं लेकिन उन्हें दूर करने का उपाय नहीं सुझाते ,
    आप ने आज बहुत ही अच्छे सुझाव दिए हैं और इन को अपनाने से होने वाले संभावित परिणाम भी बेहद अच्छे हैं.
    .काश ,ऐसा हो सकता !

    ReplyDelete
  5. आपके सुझाव बहुत काम के हैं। पर क्या हमारे नेता जो खुद ही कोई काम नियम से नही करते ऐसा कार्ड जारी करवायेंगे ।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - रविवार - 06/10/2013 को
    वोट / पात्रता - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः30 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra


    ReplyDelete
  7. हर बिंदु हर, सुझाव बेहतरीन .....बड़े बदलावों की शुरुआत यही से होगी ....

    ReplyDelete
  8. चुनावों में यथेष्‍ट सुधार हुए हैं, आने वाले समय में और उम्‍मीदें हैं.

    ReplyDelete
  9. आने वाले समय में यह सब करना ही होगा।

    ReplyDelete
  10. रमाकांत जी आपके सुझाव आम आदमी के लिए बहुत बढ़िया है परन्तु इसके लागू होने पर कई नेता को घर बैठना पड़ेगा इसीलिए क्या वे चाहेंगे इसे लागू करना ?
    latest post: कुछ एह्सासें !

    ReplyDelete
  11. सहमत आपकी बात से ... उत्तम सुझाव हैं ... पर अधिकाँश नेता इसे नहीं माने वाले ...

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आप की इस प्रविष्टि की चर्चा शनिवार 12/10/2013 को त्यौहार और खुशियों पर सभी का हक़ है.. ( हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल : 023)
    - पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर ....

    ReplyDelete
  13. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से आभार।

    ReplyDelete