गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Friday, 29 June 2012

फरेब

मैं जानता हूं
हर फरेब
मेरे प्रत्येक प्रश्न पर
तुम्हारा जवाब
फिर क्यों
तुमसे ही पूछना चाहता हूं?
क्यों सुनना चाहता हूं?

सब

तुम भी जानती हो?
कि सदैव की भांति
आज भी
तुम झूठ ही बोलोगी
यह जानते हुए भी
कि हर बार बोला गया झूठ
तुम्हारा चेहरा बयां कर जाता है


फिर ऐसा क्यों?

मैं कहां जान पाया?
तुम्हारी मजबूरी
मक्कारी या धूर्तता
और एक झूठ को
छुपाने के लिए बोला गया
झूठ पर झूठ

पर ये मेरा ही मन है
जो नहीं त्याग पाता
अपनी आस्था और हठ
एक सच सुनने की
जो तुम्हारी आंखें बोल जातीं हैं
तमाम बंदिशों को तोड़कर

और मैं चलता चला जाता हूं
तुम्हारे एक झूठ से
दूसरे झूठ की
अंतहीन यात्रा में


आँखे जो भी कहेंगी
होठों से निकली ध्वनियाँ
उसे काटती रहेंगी

01.03.2011
चित्र गूगल से साभार
अंतिम तीन लाइन तथागत ब्लाग के सृजनकर्ता
श्री राजेश कुमार सिंह के सौजन्य से

23 comments:

  1. sundar abhivyakti ...
    shubhkamnayen.

    ReplyDelete
  2. मैं कहां जान पाया.....yahi to mushkil hai......

    ReplyDelete
  3. चक्षु सत्‍य, शब्‍द मिथ्‍या.

    ReplyDelete
  4. जाने मजबूरी है या मक्कारी ...पर झूठ पर झूठ.... बहुत उम्दा

    ReplyDelete
  5. पर ये मेरा ही मन है
    जो नहीं त्याग पाता
    अपनी आस्था और हठ
    एक सच सुनने की
    जो तुम्हारी आंखें बोल जातीं हैं
    तमाम बंदिशों को तोड़कर

    बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  6. फरेब है या मक्कारी,,,,,

    बहुत अच्छी प्रस्तुति,,,बधाई रमाकांत जी

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: बहुत बहुत आभार ,,

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  8. आंखें सच बोल देती हैं।
    अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  9. यह तो होता ही रहेगा - आँखे जो भी कहेंगी ,होठो से निकली ध्वनिया उसे काटती रहेंगी
    जाना, माना और स्वीकार किया शाश्वत असमंजस

    ReplyDelete
  10. वाह ... बेहतरीन प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  11. बार बार बोलने से झूठ सच भी तो हो जाता है ....फिर तो आँखों का और होठों की ध्वनियों का तारतम्य बैठ जायेगा न.....!!!

    ReplyDelete
  12. जुबान से कुछ भी कहो पर चेहरा सच बोलता है..बस पढ़सकने की बात है..बहुत सुन्दर रमाकान्त..

    ReplyDelete
  13. सुन्दर प्रस्तुति... आभार। मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  14. फिर क्यूँ !
    बढ़िया.

    ReplyDelete
  15. हसीन फ़रेब,यह चाह कर भी पीछा नहीं छोड़ता :)

    ReplyDelete
  16. अच्छी प्रस्तुति तारतम्य लिए है एक सिरे से दुसरे तक .बढ़िया प्रवाह है रचना का .

    ReplyDelete
  17. सशक्‍त लेखन के साथ उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ... आभार ।

    ReplyDelete
  18. आँखें जो कह जाती हैं उसे पढ़ने की कला कम को ही आती है शब्दों को ही पकड़ कर चलते रहते हैं, सुंदर पोस्ट !

    ReplyDelete
  19. बढ़िया..............

    बेहतरीन रचना..................

    अनु

    ReplyDelete
  20. आँखो से सुनी और मौन रहकर चेहरे पर पढ़ी गई बातें ही जीवन का लक्ष्य
    निर्धारित करती हैं.......

    ReplyDelete
  21. आँखें दिल की जुबां होती हैं..सच है..
    लेकिन प्रेम में इतने प्रश्नों का स्थान कहाँ होता है?

    ReplyDelete
  22. I read your post interesting and informative. I am doing research on bloggers who use effectively blog for disseminate information.My Thesis titled as "Study on Blogging Pattern Of Selected Bloggers(Indians)".I glad if u wish to participate in my research.Please contact me through mail. Thank you.

    http://priyarajan-naga.blogspot.in/2012/06/study-on-blogging-pattern-of-selected.html

    ReplyDelete