गुरुकुल ५

# गुरुकुल ५ # पीथमपुर मेला # पद्म श्री अनुज शर्मा # रेल, सड़क निर्माण विभाग और नगर निगम # गुरुकुल ४ # वक़्त # अलविदा # विक्रम और वेताल १७ # क्षितिज # आप # विक्रम और वेताल १६ # विक्रम और वेताल १५ # यकीन 3 # परेशाँ क्यूँ है? # टहलते दरख़्त # बारिस # जन्म दिन # वोट / पात्रता # मेरा अंदाज़ # श्रद्धा # रिश्ता / मेरी माँ # विक्रम और वेताल 14 # विनम्र आग्रह २ # तेरे निशां # मेरी आवाज / दीपक # वसीयत WILL # छलावा # पुण्यतिथि # जन्मदिन # साया # मैं फ़रिश्ता हूँ? # समापन? # आत्महत्या भाग २ # आत्महत्या भाग 1 # परी / FAIRY QUEEN # विक्रम और वेताल 13 # तेरे बिन # धान के कटोरा / छत्तीसगढ़ CG # जियो तो जानूं # निर्विकार / मौन / निश्छल # ये कैसा रिश्ता है # नक्सली / वनवासी # ठगा सा # तेरी झोली में # फैसला हम पर # राजपथ # जहर / अमृत # याद # भरोसा # सत्यं शिवं सुन्दरं # सारथी / रथी भाग १ # बनूं तो क्या बनूं # कोलाबेरी डी # झूठ /आदर्श # चिराग # अगला जन्म # सादगी # गुरुकुल / गुरु ३ # विक्रम वेताल १२ # गुरुकुल/ गुरु २ # गुरुकुल / गुरु # दीवानगी # विक्रम वेताल ११ # विक्रम वेताल १०/ नमकहराम # आसक्ति infatuation # यकीन २ # राम मर्यादा पुरुषोत्तम # मौलिकता बनाम परिवर्तन २ # मौलिकता बनाम परिवर्तन 1 # तेरी यादें # मेरा विद्यालय और राष्ट्रिय पर्व # तेरा प्यार # एक ही पल में # मौत # ज़िन्दगी # विक्रम वेताल 9 # विक्रम वेताल 8 # विद्यालय 2 # विद्यालय # खेद # अनागत / नव वर्ष # गमक # जीवन # विक्रम वेताल 7 # बंजर # मैं अहंकार # पलायन # ना लिखूं # बेगाना # विक्रम और वेताल 6 # लम्हा-लम्हा # खता # बुलबुले # आदरणीय # बंद # अकलतरा सुदर्शन # विक्रम और वेताल 4 # क्षितिजा # सपने # महत्वाकांक्षा # शमअ-ए-राह # दशा # विक्रम और वेताल 3 # टूट पड़ें # राम-कृष्ण # मेरा भ्रम? # आस्था और विश्वास # विक्रम और वेताल 2 # विक्रम और वेताल # पहेली # नया द्वार # नेह # घनी छांव # फरेब # पर्यावरण # फ़साना # लक्ष्य # प्रतीक्षा # एहसास # स्पर्श # नींद # जन्मना # सबा # विनम्र आग्रह # पंथहीन # क्यों # घर-घर की कहानी # यकीन # हिंसा # दिल # सखी # उस पार # बन जाना # राजमाता कैकेयी # किनारा # शाश्वत # आह्वान # टूटती कडि़यां # बोलती बंद # मां # भेड़िया # तुम बदल गई ? # कल और आज # छत्तीसगढ़ के परंपरागत आभूषण # पल # कालजयी # नोनी

Tuesday, 12 June 2012

एहसास



बादल छंटते नहीं
सूरज ढल जाता है

चांद दिखता ही नहीं
रौशनी ये कैसी है?

वक्त

थम गया मौत की मानिंद
यक ब यक मेरे ज़ानिब



दर्द ये कैसा बेहिस?
एहसास होता ही नहीं

कैसा ये बेअदब
हम दोनों का रिश्ता है?

16.03.2012
(चित्र गूगल से साभार)
तथागत ब्लाग के सृजन कर्ता श्री राजेश कुमार सिंह
को समर्पित

19 comments:

  1. बहुत खुबसूरत अहसास...

    ReplyDelete
  2. संबंधो के जाल/जंजाल में न तो उलझना सरल है न मुक्त होना
    सुंदर भाव्यभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  3. कुछ रिश्ते ऐसे भी होते हैं, जिनके साथ चलना होता है।

    ReplyDelete
  4. कुछ खास ही होता है रिश्‍तों का अदब.

    ReplyDelete
  5. कैसा ये बेअदब
    हम दोनों का रिश्ता है?

    वाह,,,, बहुत सुंदर प्रस्तुति,,,बेहतरीन रचना,,,,,

    MY RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: विचार,,,,

    ReplyDelete
  6. कुछ बताती कुछ छुपाती।
    कविता लिए पहेली आती।

    सादर।

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी रचना..बधाई

    नीरज

    ReplyDelete
  8. वक्त थम गया मौत की मानिंद...............
    वाह!!!
    बेहतरीन रचना......

    ReplyDelete
  9. बेअदब रिश्ता भी ... फिर भी निभाया जाता है ... सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  10. मित्रों चर्चा मंच के, देखो पन्ने खोल |

    पैदल ही आ जाइए, महंगा है पेट्रोल ||

    --

    बुधवारीय चर्चा मंच

    ReplyDelete
  11. दर्द ये कैसा बेहिस?
    एहसास होता ही नहीं
    कैसा ये बेअदब
    हम दोनों का रिश्ता है?
    बहुत ही सुन्दर रचना...
    कैसा रिश्ता है..
    दर्द भी है आर उसका अहसास भी नहीं...
    बहुत सुन्दर.....

    ReplyDelete
  12. कैसा ये बेअदब
    हम दोनों का रिश्ता है?.....बहुत सुन्दर.....

    ReplyDelete
  13. सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी रचना !

    ReplyDelete
  14. कविता में मन को स्पर्श करने वाले भाव अच्छे लगे । मेरे पोस्ट पर आकर मेरा मनोबल बढ़ाने के लिए आपका आभार ।

    ReplyDelete
  15. दर्द का रिश्ता सबसे प्यारा रिश्ता होता है ..सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  16. दर्द अकसर आकर ठहर ही जाते हैं
    पास जब तक रहते हैं, सताते हैं

    ReplyDelete
  17. भावपूर्ण रचना...बेहिस का अर्थ क्या है?

    ReplyDelete
  18. HR SHER LAJABAB ....BADHAI SWEEKAREN.

    ReplyDelete